Categories
धार्मिक

पैरों में ऐसे बिछिया कभी मत पहनना पति की होजाती है😭😭…

धार्मिक

हिन्दु धर्म में शादी-शुदा महिलाएं पांवो में बिछिया पहनती हैं। हमारे धर्म में दोनों पांवों की बीच की तीन उंगलियो में बिछिया पहनने का रिवाज है। औरतों से सारे श्रृंगार बिछिया और टीका के बीच होते हैं, यानि बिछिया औरतों का आखिरी आभुषण होता है। औरतों के सर पर सोने का टीका और पांव में चांदी की बिछिया पहनने का कारण यह होता है कि आत्म कारक सूर्य और मन कारण चंद्रमा दोनों की कृपा जीवनभर साथी बने रहे। लेकिन, ये बात शायद आपको मालूम न हो कि बिछिया पति की गरीबी का कारण भी हो सकता है। जी हां, यह बात बिल्कुल सच है कि बिछिया पति की गरीबी का कारण भी हो सकती है।

बिछिया क्यों पहनती हैं औरतें?
हमारे देश में हिन्दू महिलाएं सोलह श्रृंगार करने के लिए प्रसिद्ध हैं। माथे की बिंदी से लेकर, पांव में पहनी जाने वाली बिछिया तक, हर एक का अपना महत्व है। क्या आपको पता है कि महिलाओं द्वारा पांव में पहनी जाने वाली बिछिया का उनके गर्भाशय से गहरा संबंध होता है। शादी के बाद औरतों द्वारा बिछिया पहनने का रिवाज़ है। कई लोग इसे सिर्फ शादी का प्रतीक चिन्ह और परंपरा मानते हैं। लेकिन क्या आपको पता है कि बिछिया का गर्भाशय से वैज्ञानिक संबंध भी है। पैरों के अंगूठे से सटी हुई दूसरी अंगुली में एक विशेष नस होती है जो सीधे गर्भाशय से जुड़ी होती है, जो गर्भाशय को नियंत्रित करती है और रक्तचाप को संतुलित रखती है। बिछिया के दबाव के कारण रक्तचाप नियमित और नियंत्रित रहता है।

लेकिन, बिछिया पति की गरीबी का कारण भी बन सकती है। ज्योतिष के मुताबिक, बिछिया पहनने की वजह ये है कि इसे सूर्य और चंद्रमा का प्रतिक माना जाता है। ऐसी मान्यता है कि बिछिया पहनने से सूर्य और चंद्र की कृपा पति और पत्नी दोनों पर बनी रहती है। इस बात का भी खास ख़याल रखा जाना चाहिए कि बिछिया हमेशा चांदी की ही पहननी चाहिए। भूल कर भी कभी सोने की बिछिया न पहनें।