Categories
ज्योतिष

कुंडली में बनने वाले 5 दुर्योग जो देते हैं मानसिक, शारीरिक व आर्थिक कष्ट

हमारी जन्म कुंडली में कुछ इसे योगो का निर्माण होता हे जो की हम जीवन में परेशानी प्रदान करते हैं, यह दुर्योग व्यक्ति को परेशानी, भटकाव, मानसिक,आर्थिक व् शारीरिक कष्ट प्रदान करते हें.

गुरु-राहू का चंडाल दोष – यदि कुंडली में गुरु रहू एक साथ स्थित हें तब इस योग का निर्माण होता है. इस योग की वजह से व्यक्ति के पैसे फसना, धोखा, कर्ज,सम्मान में हानि, व्यक्ति की अच्छी आदत समाप्त हो जाती हे , वाणी खराब हो जाती हे और इस वजह से व्यक्ति के रिश्ते भी खराब हो जाते हें. व्यक्ति का चरित्र खराब हो जाता हे, धर्म से भी व्यक्ति भ्रष्ट हो जाता हे आर्थिक समस्या व्यक्ति को बनी रहती हे.

उपाय – एक मुखी रुद्राक्ष धारण करें , ब्राह्मणों का सम्मान करें , पिली वस्तु का दान दें , केले का वृक्ष लगायें या केले का वृक्ष दान दें, विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ करें , ॐ रां राहवे मन्त्र का जप करें एक माला इससे आप को समस्याओ से शांति मिलेगी.

केमद्रुम योग – कुंडली में जब भी चंद्रमा अकेला स्थित हो उसके आसपास कोई गृह न हो तब इस योग का निर्माण होता है. यह योग व्यक्ति को आजीवन धन की कमी देता है, पैसा कमाने के बाद व्यक्ति उस धन को खो देता है.मन में भटकाव और नकारात्मकता प्रदान करता है.

उपाय – शिव आराधना करें, रुद्राभिषेक करें श्रवण मॉस और अपने जन्म इत्यादि विशेष दिन पर ,सोमवार के दिन शिव मन्दिर जाएँ और शिव जी का अभिषेक करें और ११ विल्ब पत्र अर्पित करें , दक्षिणावर्ती शंख से माँ लक्ष्मी पर जल अर्पित करें और केसर का तिलक लगायें, घर में श्री यंत्र को स्थापित करें और नित्य धुप दीप करें , पूर्णमासी का व्रत करें , गुरूवार को शिक्षा सामग्री दान करें.