Categories
ज्योतिष

करोड़ों में से ऐक अतिभाग्यशाली व्यक्ति के शरीर पर होते हैं ये निशान….

ज्योतिष

लाखों में भी नहीं करोड़ों में मिलते हैं ऐसे लोग, जिनको होता है ये…

हमारे पुनर्जन्म के बारे में भी बताते हैं ये!

समुद्रशास्त्र: क्या आपके शरीर पर भी है ये निशान! तो जानिये इसका रहस्य

भोपाल। किसी भी व्यक्ति के शरीर में कई तरह के निशान पाए जाते हैं। कई बार ये निशान उसके सुनहरे भविष्य ( Future ) को दर्शाते हैं, तो कई बार दूसरे निशान जीवन में आने वाली कठिनाइयों को भी प्रदर्शित करते हैं।

ऐसा ही एक निशान करोड़ों में से एक व्यक्ति में पाया जाता है, जिसके संबंध में माना जाता है कि ये निशान जहां एक ओर व्यक्ति को भाग्यशाली बनाता है, वहीं अथाह संपत्ति भी प्रदान करता है।

दरअसल ज्योतिष ( Jyotish ) में शरीर के ऐसे अनेक निशानों को लेकर कई तरह की भविष्यवाणियां ( Prediction ) तक की जाती हैं। यहां तक की ये भी माना जाता है कि हमारे शरीर के कुछ निशान हमारे पुनर्जन्म के बारे में भी बताते हैं। हालांकि इनको लेकर लोगों के भिन्न-भिन्न मत हैं।

व्यक्ति के शरीर में मौजूद इन निशानों में हथेली के निशान, पैर के नीचे तलवों पर निशान ( Astrology ) से लेकर माथे पर बनने वाली लकीरों सहित तिलों को लेकर कई बातें कहीं गईं हैं।

यहां तक माना जाता है कि हमारे शरीर पर पाए गए ये निशान हमारे भविष्य और चरित्र के बारे में बहुत कुछ कहते हैं। वहीं ज्योतिष शास्त्र के अनुसार शरीर के कुछ अंग अत्यंत महत्वपूर्ण माने गए हैं, इन्हीं में से एक जगह है भौंह…

समुंद्रशास्त्र के अनुसार भी इन्हीं निशानों में से एक भौंह के पास तिल का होना बहुत ही शुभ माना जाता है। ऐसे लोगों का दांपत्य जीवन काफी सुकून भरा बीतता है।

माना जाता है भौंह पर ये निशान होना बहुत ही असंभव होता है करोड़ो व्यक्तियों में से सिर्फ एक ही व्यक्ति के शरीर पर यहां तिल पाया जाता है और वह उस तिल की वजह से बहुत ही भाग्यशाली बन जाता है, कुछ लोगों के भौह में जरूर तिल होता है, जो काफी शुभ माना गया है ऐसे लोगों का दाम्पत्य जीवन हमेशा खुशहाल रहता है। साथ ही इन लोगों के बारे में कहा जाता है कि ये लोग अत्यंत भाग्यशाली भी होते हैं।

ऐसे समझें भौंह पर इस निशान का मतलब-
: भौंह के बीच में तिल होने का मतलब होता है कि उस व्यक्ति के अंदर एक लीडर की विशेषता होगी। उसके जीवन में आर्थिक संपन्नता आएगी।ऐसा व्यक्ति अकसर यात्रा करता रहता है।

: यदि भौंह पर बायीं ओर तिल हो तो व्यक्ति डरपोक होगा और बिज़नेस और नौकरी में उसे कठिनाइयों का सामना करना पड़ेगा। वहीं ऐसे व्यक्तियों का काफी मेहनत के बाद भी भाग्य साथ नहीं देता।

: वहीं भौंह पर दाहिनी ओर तिल है तो व्यक्ति को वैवाहिक जीवन में ख़ुशियां और संतान सुख प्राप्त होगा। यह सुखमय जीवन का संकेत माना जाता है। ऐसे लोग हर क्षेत्र में सफल होते हैं।

साथ-साथ चलते हैं दोनों…
यहां तक माना जाता है कि तिल और भाग्य दोनों साथ-साथ चलते हैं और ये दोनों व्यक्ति के स्वभाव, कर्म और उनके जीवन में होने वाली अच्छी और बुरी घटनाओं की ओर संकेत करते हैं। इसलिए शरीर के विभिन्न अंगों पर तिल का कोई न कोई अर्थ अवश्य होता है।

माना जाता है कि तिल हमारे भविष्य के कई रहस्यों को उजागर करते हैं। शरीर पर कोई तिल छोटा तो कोई बड़ा होता है, साथ ही ये काले और लाल रंग के भी होते हैं।

समुद्र शास्त्र : वैदिक ज्योतिष की एक शाखा…
माना जाता है कि समुद्र शास्त्र वैदिक ज्योतिष की एक शाखा है। वहीं इसमें तिल के महत्व, शक्तियों और उनके प्रभावों के बारे में बताया गया है। इसके अनुसार इनका असर मनुष्य के व्यक्तित्व, स्वभाव और उनके भाग्योदय पर पड़ता है।

हमारे शरीर में ये विभिन्न आकार और रंग रूप के होते हैं। समुद्र विज्ञान में शरीर के अलग-अलग हिस्सों में तिल के सकारात्मक और नकारात्मक प्रभाव को बताया गया है। कहा जाता है कि शरीर पर तिल ग्रह की स्थिति और उनके प्रभावों को दर्शाता है।

कुछ लोगों का तो यहां तक मानना है कि अपने इन्हीं तिलों के कारण कई बार व्यक्ति कम प्रयास करके भी भाग्यशाली बन जाता है। तिल हमारे शरीर पर जन्मजात भी हो सकता है तिल आपका भाग्य और चरित्र भी बताता है शरीर के अंगो पर तिल का ज्योतिषीय आधार पर कोई न कोई महत्व जरुर होता है।

यहां का निशान भी होता है बहुत खास…

होंठो पर :
माना जाता है कि ऐसे लोग बहुत ही चालाक होते है और होंठो पर तिल लोभ कामुक और भोग विलासिता का संकेत होता है। ऐसी महिलाएं लोगो को अपना दीवाना बना देती हैं।

ठोड़ी पर :
बहुत से लोगो के ठोड़ी पर तिल होता है। मान्यता के अनुसार ये बताता है कि ऐसे इन्सान बहुत ही धनवान होते है इन्हें कभी भी पैसों की कमी महसूस नहीं होती है।

कान पर :
कान पर तिल का होना इन्सान को खुशनसीब धनवान और उसके घुमक्कड़ स्वभाव को दर्शाता है, माना जाता है कि ऐसे लोग राजाओं की जिन्दगी जीते हैं। इसके अलावा हाथ के दायें तरफ का तिल बुद्धिमान और कठोर स्वभाव का परिचय देता है जबकि बांयें हाथ का तिल धनवान बनने के स्वप्न लिए साधारण जीवन जीने को दिखाता है।