Categories
धार्मिक

क्या आप के हाथ में है भाग्य रेखा, बनाती है अति भाग्यशाली

हाथ में एक रेखा होती है भाग्य रेखा। हस्तरेखा विज्ञान अनुसार भाग्य रेखा हाथ की महत्वपूर्ण रेखा मानी जाती है जो करियर के बारे में बताती है। ऐसा नहीं कि हाथ में ये रेखा न होने पर अशुभ होता है। बस इन लोगों को करियर में सफलता पाने के लिए कठिन परिश्रम करना पड़ता है। हथेली में सीधी, गहरी, स्पष्ट और बिना टूटी भाग्य रेखा शुभ मानी जाती है। जानिए भाग्य लाइन से जुड़ी खास बातें…

कहां होती है भाग्य रेखा? हाथ में कहीं से भी चलकर जो रेखा सीधे शनि पर्वत तक पहुंचती है उसे ही भाग्य रेखा माना जाता है। अमूमन भाग्य रेखा कलाई से आरंभ होकर मध्यमा यानी बीच वाली अंगुली के नीचे स्थित शनि पर्वत तक पहुंचती है। इसके अलावा भी भाग्य रेखा हथेली के कई अन्य स्थानों से भी आरंभ हो सकती है लेकिन उसका समापन शनि पर्वत पर ही होता है। ये रेखा मणिकर्ण, जीवन रेखा, शुक्र पर्वत, चंद्र पर्वत या फिर ह्रदय रेखा से भी शुरु हो सकती है।

ऐसी भाग्य रेखा बनाती है धनवान: यदि भाग्य रेखा मणिबंध होकर सीधे शनि पर्वत तक बिना कटे-फटे पहुंच जाए तो ऐसा व्यक्ति जीवन में खूब तरक्की करता है। अगर यह रेखा बीच में कटी-फटी हो तो उस समय व्यक्ति को परेशानियों से जूझना पड़ता है।

यदि भाग्य रेखा शनि पर्वत पर पहुंचकर दो रेखाओं में बट जाए और उसमें से एक रेखा गुरु पर्वत पर जा मिले तो ऐसा व्यक्ति जीवन में खूब नाम कमाता है। भाग्य रेखा जितनी लंबी और गहरी होती है उतनी ही व्यक्ति की किस्मत चमकती है।

यदि चंद्र पर्वत से कोई अन्य रेखा निकलकर भाग्य रेखा के साथ-साथ चले तो ऐसे व्यक्ति की शादी धनी परिवार में होती है। ऐसा व्यक्ति किसी स्त्री की मदद से जीवन में आपार सफलताएं प्राप्त करता है।

हाथ में दो भाग्य रेखाओं को होना शुभ माना जाता है। यदि हथेली के बीच में मस्तिष्क रेखा से निकलकर कोई रेखा शनि पर्वत तक पहुंच जाए तो ऐसा व्यक्ति अपनी योग्यता से उच्च शिखर पर पहुंचता है।

यदि भाग्य रेखा शुक्र पर्वत से निकले तो वह व्यक्ति को कलाकार बनाती है। ऐसे लोग कला के माध्यम से खूब नाम कमाते हैं। भाग्य रेखा अगर शनि पर्वत से ऊपर मध्यमा अंगुली पर चढ़ जाएं तो ऐसा व्यक्ति लाख प्रयासों के बाद भी जीवन में असफल ही रहता है।

हथेली में अच्छी भाग्य रेखा के साथ ही यदि शनि पर्वत उठा हुआ हो और जीवन रेखा घुमावदार हो तो ऐसे व्यक्ति के पास धन-समृद्धि की कोई कमी नहीं रहती है।