Categories
धार्मिक

हथेली पर सर्प के निशान का क्या है राज क्यूं जिंदगी में मचा देता है ये निशान तबाही…

धर्म

जानिए हथेली पर सर्प का निशान किस स्थान पर हो तो उसका क्या फल मिलता है

उज्जैन. हमारी हथेली में कई तरह के चिह्न होते हैं। इनमें से कुछ शुभ तो कुछ अशुभ फल प्रदान करते हैं। ऐसा ही एक चिह्न है सर्प का। हस्तरेखा शास्त्र में हथेली में सर्प के चिह्न का बड़ा महत्व है। यह अलग-अलग रेखाओं और पर्वतों पर अलग-अलग शुभ-अशुभ प्रभाव दिखाता है। आइए जानते हैं हथेली में किस जगह सर्प का चिह्न होने पर क्या फल मिलता है…

  1. हथेली में सर्प का चिह्न होना शुभ भी होता है और अशुभ भी। यह उसके होने के स्थान पर निर्भर करता है। यदि ये चिह्न शुक्र पर्वत पर होता है तो व्यक्ति को भोग-विलास के साधन तो बहुत प्राप्त होते हैं, लेकिन दांपत्य जीवन में कष्ट बना रहता है। ऐसे व्यक्ति का पारिवारिक जीवन 38 वर्ष की आयु तक संकटपूर्ण रहता है।
  2. तर्जनी अंगुली के नीचे गुरु पर्वत होता है। इस पर सर्प का चिह्न हो तो व्यक्ति अत्यंत गुणवान और ज्ञानवान होता है। इस पर्वत पर सर्प का मुख ऊपर यानी अंगुली की ओर जाता हुआ हो तो व्यक्ति अध्यात्म के क्षेत्र में ऊंचाइयां छूता है, लेकिन सर्प का चिह्न नीचे की ओर हो तो व्यक्ति अधोगति को प्राप्त होता है। ऐसे व्यक्ति को कई बार अपमानजनक परिस्थितियों का सामना करना पड़ता है।
  3. मध्यमा अंगुली के नीचे शनि पर्वत होता है और इसी पर आकर भाग्यरेखा समाप्त होती है। यदि इस स्थान पर सर्प का चिह्न हो तो व्यक्ति अपार धन संपत्ति का मालिक बनता है।
  4. यदि सर्प रेखा दोहरी हो तो इसका उल्टा असर होता है। ऐसा व्यक्ति अपने पूर्व संचित धन को भी व्यसनों में गंवा बैठता है।
  5. अनामिका अंगुली के नीचे सूर्य पर्वत होता है। इस स्थान पर सर्प का चिह्न हो तो वह अशुभ होता है। यहां सर्प का चिह्न होना मतलब जीवन संकटपूर्ण होना। ऐसा व्यक्ति जीवन में कभी तरक्की नहीं कर पाता है। एक तरह से यहां सर्प के कारण सूर्य ग्रहण जैसी स्थिति मानी जाती है।
  6. कनिष्ठिका अंगुली के नीचे बुध पर्वत व्यापार, व्यवसाय का स्थान होता है। यहां सर्प का चिह्न होने से व्यक्ति मानसिक रूप से मजबूत रहता है और अपने निर्णय का पक्का होता है। यह एक बार कुछ करने का ठान ले तो करके रहता है। बिजनेस के क्षेत्र में ऊंचाइयां हासिल करता है।
  7. चंद्र पर्वत पर सर्प का चिह्न होने से व्यक्ति विदेशों से धन अर्जित करता है। विदेशों में निवास करता है और यहां तक कि उसका विवाह भी विदेशी युवक या युवती से होता है।