Categories
Other

बजरंग बाण के पाठ किन विशेष स्थिति में करना चाहिए

मंगलवार का दिन राम भक्त हनुमान की पूजा के लिए समर्पित होता है। आज के दिन हनुमान चालीसा, सुंदरकांड, रामचरितमानस का पाठ करना मंगलकारी होता है। आज के दिन बजरंग बाण का भी पाठ किया जाता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, बजरंग बाण का पाठ मंगलवार, शनिवार या फिर हनुमान जयंती के दिन विशेष मनोकामना की पूर्ति के लिए किया जाता है। बजरंग बाण का पाठ हनुमान चालीसा की तरह हर रोज करने की मनाही है क्योंकि इसका उद्देश्य किसी विशेष कार्य की सिद्धि के लिए ही किया जाता है।

बजरंग बाण का पाठ करने से व्यक्ति को भय, भयंकर रोग या कष्ट से मुक्ति तथा घोर विपत्ति से बाहर निकलने में सफलता प्राप्त हो सकती है। बजरंग बाण का पाठ शुद्ध उच्चारण के साथ करना होता है। इस पाठ को एक बार में ही करने का विधान है। जब भी आप पूजा करने बैठें तो हनुमान जी को ध्यान करके उनको पुष्प, गंध, धूप, अक्षत्, रोली आदि अर्पित करें। उसे बाद बजरंग बाण का पाठ आरंभ करें। निश्चय प्रेम प्रतीति से लेकर सिद्ध करैं हनुमान तक का पाठ एक बार में पूर्ण करें।