Categories
धार्मिक

ऐसे लोगों का जीना भी होता हैं बहुत मु’श्किल, दूसरे लेते हैं लाभ!! जाने क्या कहती हैं चाणक्य नीति…

धर्म

चा’णक्य ने अपने नीति ग्रंथ यानी ‘चाणक्य नीति’ में धन-दौलत, काम, परिवार, सफलता और विफलता समेत कई विषयों को शामिल किया है. उनकी नीति मनुष्य के जीवन के लिए काफी उपयोगी मानी जाती हैं. चाणक्य के बताए रास्तों पर चलने से लोगों के कठिन से कठिन काम भी आसानी से निप’ट जाते हैं. इसी नीति ग्रंथ में वो मनुष्य के स्वभाव के बारे में बात करते हैं और बताते हैं कि किस प्रकार के लोगों को जीवन में क’ठिनाइ’यों का सामना करना पड़ता है…

मनुष्य को अत्यंत सरल और सीधा भी नहीं होना चाहिए. वन में जा’कर देखो, सीधे पेड़ का’ट दिए जाते हैं और टेढ़े गां’ठों वाले पेड़ों को कोई हाथ तक नहीं लगाता. वो लंबे समय तक खड़े रहते हैं.

आचार्य चाणक्य के अनुसार मनुष्य को अत्यंत सरल और सीधे स्वभाव का नहीं होना चाहिए. इससे उसे सब लोग दु’र्बल और मू’र्ख मानने लगते हैं तथा हर समय क’ष्ट देने का प्रयत्न करते हैं.

सी’धा-सा’दा व्यक्ति प्र’त्येक व्यक्ति के लिए सुगम होता है जबकि टेढ़े व्यक्ति से बचने की कोशिश करते हैं. ऐसे में सीधे व्यव’हार वाले व्यक्ति का लोग फा’यदा उ’ठाते हैं और उनका दु’रुपयो’ग करते हैं.