Categories
News

अ’गर आप’की गर्ल’फ्रेंड भी बा’र बा’र कह’ती है ये बा’तें, तो स’मझ जाइ’ए वो आप’के सा’थ कर’ना चा’हती है ये.. जा’निए क्या है वो बा’तें….

हिंदी खबर

को’ई भी रि’श्ता अचा’नक ख’त्म न’हीं हो’ता है। जि’स प्र’कार ब’ल्ब शॉ’र्ट हो’ने से प’हले उस’की रो’शनी धी’मी- ते’ज हो’कर ह’में उस’के ख’राब हो’ने का सं’केत दे’ती है। उ’सी प्र’कार को’ई रि’श्ता भी क’भी अचान’क ख’त्म न’हीं हो’ता। क’ई सा’री ची’जें ब’हुत पह’ले से हो’ने लग’ती हैं ले’किन उ’न्हें नज’रअं’दाज क’र दि’या जा’ता है औ’र फि’र ज’ब रि’श्ता ख’त्म हो जा’ता है तो व्य’क्ति को य’ही लग’ता है कि सब’कुछ अ’च्छा हो’ने के बा’वजूद रि’श्ता अचा’नक कै’से ख’त्म हो ग’या? इस’लिए बहु’त ज’रूरी है कि आ’प रि’श्ते में ध्या’न दें कि आ’पके पा’र्टनर का स्वभा’व बद’ल तो न’हीं र’हा है। अग’ली स्लाइ’ड्स के मा’ध्यम से ह’म आ’पको ब’ता र’हे हैं वे बा’तें जो रि’श्ता ख’त्म हो’ने से पह’ले ही अधि’कतर ग’र्लफ्रेंड क’हने लग’ती हैं। 

तु’म प’हले जै’से न’हीं र’हे
य’ह बा’त अधि’कतर रि’श्तों में हो’ती है कि ए’क सम’य बा’द गर्ल’फ्रेंड कह’ने ल’गती है कि तु’म पह’ले जै’से न’हीं र’हे। इ’स बा’त को सा’मान्य सम’झने की ब’जाय थो’ड़ा गंभी’रता से ले। अ’पनी ग’र्लफ्रेंड से प्रे’म से पू’छे कि उ’से ऐ’सा क्यों मह’सूस हो’ता है। य’ह बिल्कुल सं’भव है कि आ’प में कु’छ ऐ’से बद’लाव आ’ए हों, जो कि आ’प दे’ख न पा र’हे हों इस’लिए उन’के बा’रे में जान’ने का प्रया’स क’रें।

य’ह रि’श्ता उ’बाऊ हो चु’का है
य’दि रि’श्ते में य’ह बा’त बा’र- बा’र आ र’ही है त’ब तो ज’रूरी है कि आ’प ध्या’न दें कि क’हीं रि’श्ते को लं’बा स’मय हो जा’ने के का’रण आ’प उ’से ह’ल्के में तो न’हीं ले र’हे हैं। य’दि रि’श्ते में प’हले जै’सा उत्सा’ह न’हीं ब’चा हो’गा त’ब तो बि’ल्कुल सं’भव है कि आ’पकी ग’र्लफ्रेंड य’ह बा’त क’हे। इस’लिए को’शिश क’रें कि रि’श्ते में ह’मेशा ए’क उत्सा’ह ब’ना र’हे। ए’क-दू’सरे की इच्छा’ओं का सम्मा’न क’रें। 

हमा’रा को’ई भ’विष्य न’हीं है
रि’श्ते में ती’न से चा’र सा’ल त’क र’हने के बा’द य’दि अचा’नक से आप’की गर्ल’फ्रेंड ऐ’सा कु’छ कह’ने ल’गे तो आ’प उ’स बा’त को स’मझें क्यों’कि शुरुआ’त में जि’स रि’श्ते का भ’विष्य था, उ’सके लि’ए अ’चानक ऐ’से ख्या’ल कै’से आ’ने ल’गे हैं। पू’री संभा’वना है कि अ’ब आ’पकी ग’र्लफ्रेंड का रि’श्ते में म’न न’हीं ल’ग र’हा है या फि’र आ’प दो’नों से जु’ड़ा कु’छ ऐ’सा है जो कि प’रेशान क’र र’हा है। 

मे’रा सिंग’ल र’हने का दि’ल कर’ता है
य’दि आ’पकी गर्ल’फ्रेंड क’हती हैं कि मे’रा सिंग’ल रह’ने का दि’ल क’रता है। य’ह रिले’शनशीप ब’हुत अ’जीब हो चु’की है तो उ’स बा’त को ग’लती से भी नज’रअंदा’ज न क’रें। य’ह न सो’चें कि वो आ’पको परे’शान क’रने या म’जाक क’रने के लि’ए य’ह स’ब क’ह र’ही है क्यों’कि आ’गे चल’कर य’ह आ’पके लि’ए बहु’त ब’ड़ा परे’शानी का का’रण ब’न सक’ता है। इस’लिए इ’स त’रह की बा’तों को गंभीर’ता से लें।

को’ई भी रि’श्ता अचा’नक ख’त्म न’हीं हो’ता है। जि’स प्र’कार ब’ल्ब शॉ’र्ट हो’ने से प’हले उस’की रो’शनी धी’मी- ते’ज हो’कर ह’में उस’के ख’राब हो’ने का सं’केत दे’ती है। उ’सी प्र’कार को’ई रि’श्ता भी क’भी अचान’क ख’त्म न’हीं हो’ता। क’ई सा’री ची’जें ब’हुत पह’ले से हो’ने लग’ती हैं ले’किन उ’न्हें नज’रअं’दाज क’र दि’या जा’ता है औ’र फि’र ज’ब रि’श्ता ख’त्म हो जा’ता है तो व्य’क्ति को य’ही लग’ता है कि सब’कुछ अ’च्छा हो’ने के बा’वजूद रि’श्ता अचा’नक कै’से ख’त्म हो ग’या? इस’लिए बहु’त ज’रूरी है कि आ’प रि’श्ते में ध्या’न दें कि आ’पके पा’र्टनर का स्वभा’व बद’ल तो न’हीं र’हा है। अग’ली स्लाइ’ड्स के मा’ध्यम से ह’म आ’पको ब’ता र’हे हैं वे बा’तें जो रि’श्ता ख’त्म हो’ने से पह’ले ही अधि’कतर ग’र्लफ्रेंड क’हने लग’ती हैं।