Categories
News

प’ति प’त्नी क’र र’हें थे ये का’म, इ’सी बी’च कां’पने ल’गी धर’ती, भूकं’प झट’कों के ड’र से प’ति से हु’आ ये कां’ड, डॉ’क्टर भी हु’आ.. दे’खें तस्वी’रें…

हिंदी खबर

ल’खनऊ: भा’रत में इ’स सा’ल प्राकृ’तिक आप’दाओं का कह’र जा’री र’हा। ज’ब दे’श कोरोना’वायरस जै’से भया’नक महा’मारी से जू’झ र’हा था तो चक्र’वाती तू’फ़ान औ’र भू’कंप के झट’के लो’गों में दह’शत को ब’ढ़ा र’हे थे। हा’लंकि घ’टना अ’भी ट’ला न’हीं है। इ’स सा’ल भू’कंप से झट’कों से भार’त के अ’लग अल’ग क्षे’त्र क’ई बा’र कां’पे। लगा’तार आ र’हे भू’कंप से वैज्ञा’निक भी चिं’तित हैं।

अरुणा’चल प्र’देश में 3.1 ती’व्रता का भू’कंप

इ’सी क’ड़ी में बुध’वार रा’त क’रीब 8 ब’जे भा’रत में फि’र भूकं’प के झ’टकों को महसू’स कि’या ग’या। नेश’नल सेंट’र फॉ’र सीस्मोलॉ’जी के मुता’बिक, अरुणा’चल प्र’देश के सुब’नसिरी क्षे’त्र में भूकं’प के झट’के मह’सूस कि’ए ग’ए। रि’क्टर स्के’ल प’र भू’कंप की ती’व्रता 3.1 मा’पी ग’ई है। फिल’हाल भू’कंप के झ’टकों से कि’सी भी त’रह की जा’न या मा’ल की हा’नि की जान’कारी अ’ब त’क न’हीं मि’ली है। हा’लाँकि जि’न लो’गों ने झ’टकों को महसू’स कि’या वो ड’रे हु’ए हैं।

गुज’रात के सोम’नाथ में लगा’तार 19 बा’र भू’कंप के झट’के

गौर’तलब है कि पिछ’ले ह’फ्ते गुज’रात के सोम’नाथ जि’ले में लगा’तार 19 भू’कंप के झट’कों से रा’ज्य स’हम ग’या था। रविवा’र दे’र रा’त से ले’कर सुब’ह त’क य’हां प’र भूंक’प के 19 झट’के म’हसूस कि’ए ग’ए हैं। जि’नकी तीव्र’ता 1.7 से 3.3 के बी’च मा’पी ग’ई है। हालां’कि अधि’कारियों ने जा’नकारी दी कि इ’स दौ’रान कि’सी के हता’हत हो’ने की को’ई सूच’ना न’हीं है। आ’ईए’सआ’र के ए’क व’रिष्ठ अधि’कारी ने इ’से मा’नसून की वज’ह से हो’ने वा’ली भूकं’पीय गति’विधि ब’ताया है।

मान’सून के चल’ते हो’ती हैं ऐ’सी गतिवि’धियां

गांधीन’गर स्थि’त भूकं’प अनु’संधान संस्था’न के ए’क वरि’ष्ठ अधिका’री ने क’हा कि य’ह मान’सून के च’लते हो’ने वा’ली भूकं’पीय गति’विधि है, जो कि दो से ती’न मही’ने की भा’री बारि’श के बा’द गुज’रात के सौ’राष्ट्र क्षे’त्र के कु’छ इला’कों में अक्स’र देख’ने को मिल’ती है। अधि’कारी के मुता’बिक, इ’समें को’ई चिं’ता क’रने वा’ली बा’त न’हीं है। उन्हों’ने बता’या कि रवि’वार दे’र रा’त ए’क बज’कर 42 मिन’ट से 19 बा’र भू’कंप के झ’टके मह’सूस कि’ए ग’ए हैं। इन’का कें’द्र सौ’राष्ट्र के गि’र सो’मनाथ जि’ले में ताला’ला के पू’र्व-उ’त्तर-पू’र्व में र’हा।

ल’खनऊ: भा’रत में इ’स सा’ल प्राकृ’तिक आप’दाओं का कह’र जा’री र’हा। ज’ब दे’श कोरोना’वायरस जै’से भया’नक महा’मारी से जू’झ र’हा था तो चक्र’वाती तू’फ़ान औ’र भू’कंप के झट’के लो’गों में दह’शत को ब’ढ़ा र’हे थे। हा’लंकि घ’टना अ’भी ट’ला न’हीं है। इ’स सा’ल भू’कंप से झट’कों से भार’त के अ’लग अल’ग क्षे’त्र क’ई बा’र कां’पे। लगा’तार आ र’हे भू’कंप से वैज्ञा’निक भी चिं’तित हैं।