Categories
News

दीवाली के निकलते ही मोदी के हाथ से निकली कुर्सी ?? चल गया बड़ा दॉव….

खबरे

बिहार चुनाव परिणाम आ चुके हैं. बिहार के अंदर एक बार फिर से एनडीए की सरकार बन गई है. लेकिन सूबे के मुख्यमंत्री को लेकर कयासों का बाज़ार गर्म है. बीजेपी के कुछ नेताओं का कहना है कि बिहार में इस बार बीजेपी की सीटें ज्यादा आई हैं तो मुख्यमंत्री बीजेपी का होना चाहिए. लेकिन इन सभी बातों पर वि’रा’म लगाते हुए पीएम मोदी ने कहा है कि बिहार में एनडीए की सरकार नीतीश कुमार की अगवानी में ही बनेगी. बिहार में विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के साथ ही सरकार ग’ठ’न की तैयारियां शुरू हो गई हैं. आज एनडीए नेताओं की बैठक होने वाली है.

दूसरी तरफ बिहार के डिप्टी सीएम को लेकर भी अब कयासो का बाज़ार ग’र्म होता जा रहा है. हालांकि सूत्रों और मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, अयोध्या में 1989 में हुए राम मंदिर शि’लान्या’स के दौरान पहली ईं’ट रखने वाले कामेश्वर चौपाल को बिहार का उपमुख्यमंत्री बनाया जा सकता है. इस बात का यही मतलब है कि सुशील मोदी की कुर्सी जा सकती है क्या या फिर उनको कोई और ज़िम्मेदारी दी जा सकती है? वहीँ इसी क्रम में खुद को लेकर जारी अ’ट’क’लों पर चौपाल ने कहा ‘मैं पार्टी का कार्यकर्ता हूं, पार्टी जो भी जिम्मेदारी देगी वो मुझे स्वीकार है. हमारे लिए रा’ष्ट्र प्र’थम है और व्यक्ति अं’तिम बात है. सं’ग’ठ’न से जो आदेश मिलेगा उसे लूंगा.’

जानकारी के लिए बता दें कि कामेश्वर चौपाल दलि’त स’मु’दाय से ता’ल्लुक रखते हैं. 1989 के राम मंदिर आं’दो’ल’न के समय हुए शिलान्यास में कामेश्वर ने ही राम मंदिर की पहली ईं’ट रखी थी. आ’रए’स’ए’स ने उन्हें पहले कार’से’व’क का द’र्जा दिया है. वह 1991 में रामविलास पासवान के खिला’फ चुनाव भी लड़ चुके हैं.