Categories
Other

कृ’षि वि’धायको पर बोले राहुल, पीएम मोदी बना रहे है कि’सानों को पूंजी’पतियों का ग़ु’लाम…

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कृषि-बिलों को लेकर मोदी सरकार पर हमला बोला है.राहुल ने कहा कि प्रधान’मंत्री नरेंद्र मोदी किसानों को पूं’जीपतियों का गुलाम बना रहे हैं, जिसे देश कभी सफल नहीं होने देगा. उन्होंने कहा, मोदी सरकार के कृषि-विरोधी ‘काले का’नून’ से किसानों को APMC/किसान मा’र्केट ख’त्म होने पर न्यून’तम स’मर्थन मूल्य कैसे मिलेगा? इस बिल में MSP की गारंटी क्यों नहीं दी जा रही है. राज्यस’भा में रविवार को दो बिलों को पेश किया गया है. लो’कसभा से ये बिल पहले ही पास हो चुके हैं.  कांग्रेस, आम आदमी पार्टी, बसपा और अकाली दल समेत कई पा’र्टियां इस बिल का विरोध कर रही हैं. 

इन बिलों को लेकर बी’जेपी की अगुआई वाली ए’नडीए में फूट पड़ चुकी है. बीजेपी की सबसे पुरानी सहयोगी अकाली दल और मोदी कै’बिनेट में कें’द्रीय मंत्री रहीं हर’सिमरत कौर इन बिलों के विरोध में इस्तीफा दे चुकी हैं. वहीं टी’आरएस के प्रमुख और तेलंगाना के सीएम केसी राव ने अपनी पा’र्टी के सां:सदों से इन वि’धेयकों का विरोध करने और खिलाफ में वोट करने को कहा है.

सरकार बिलों को बता रही क्रां’तिकारी

कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कृषक उपज व्यापार और वा’णिज्य (संवर्धन और सरलीकरण) विधेयक, 2020 और कृषक (सशक्तिकरण और संरक्षण) कीमत आ’श्वासन और कृ’षि सेवा पर करार विधेयक, 2020 आज राज्यसभा में पेश किया. उन्होंने कहा कि ये बिल किसानों के जीवन में क्रां’तिकारी बदलाव लाने वाले हैं. 

के’जरीवाल- ब्रायन भी वि’रोध में

दिल्ली के मु’ख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी (AAP) के प्रमुख अरविंद केजरीवाल ने भी कृ’षि बिलों का वि’रोध किया है और इनके खिलाफ राज्यसभा में गैर बी’जेपी दलों से वोट करने का आह्वान किया है. अ’रविंद केजरीवाल ने ट्वीट किया, ‘आज पूरे देश के कि’सानों की नजर राज्य सभा पर है. राज्य सभा में भाजपा अ’ल्पमत में है. मेरी सभी ग़ैर भाजपा पा’र्टियों से अपील है कि सब मिलकर इन तीनों बिलों को हरायें, यही देश का किसान चाहता है.’

 यूपी की पूर्व मुख्यमंत्री और ब’हुजन समाज पार्टी (बसपा) सुप्रीम मायावती ने भी कृ’षि बिलों के खिलाफ विरोध जताया था. मा’यावती ने कहा था कि लोक’सभा में किसानों से जुड़े दो बिल, उनकी सभी शं’काओं को दूर किए बिना ही पास कर दिए गए हैं. उससे बसपा कतई भी सहमत नहीं है. पूरे देश का किसान क्या चाहता है? इस ओर कें’द्र सरकार जरूर ध्यान दे तो यह बेहतर होगा.

दोगुनी नहीं होगी कि’सानों की आय

वहीं तृण’मूल कांग्रेस (टीएमसी) के सांसद डेरेक ओ ब्रा’यन ने राज्यसभा में कृ’षि बिलों का विरोध किया. उन्होंने कहा कि एनडीए सरकार 2022 तक कि’सानों की आय को दोगुना करने का वादा करती है. लेकिन मैं बता दूं कि कि’सानों की आय 2028 तक दोगुनी नहीं हो सकती है. ये सरकार सिर्फ वादा करती है. दो करोड़ नौकरी कहां हैं?

कां’ग्रेस के सांसद प्रताप सिंह बाजवा ने कहा कि कांग्रेस पार्टी इस बिल का वि’रोध करती है. पंजाब और हरियाणा के किसानों का मानना है कि ये बिल उनकी आत्मा पर हमला है. इन वि’धायकों पर सहमति किसानों के डे’थ वा’रंट पर हस्ताक्षर करने जैसा है. कि’सान एपीएमसी और एमएसपी में ब’दलाव के खि’लाफ हैं.