Categories
News

यूपी पंचायत चुनाव में जानिये इस बार कैसे होगा सीटों का आ’रक्ष’ण, कौन सा गांव होगा किस वर्ग के लिए आरक्षित…

हिंदी वायरल खबर

यूपी में पं’चा’यत चुनाव की तैया’रियां तेज हो गई है। प्र’शासनि’क स्तर के साथ ही चु’नाव ल’ड़ने के दा’वेदार भी मै’दान भी कूद पड़े हैं। वो’टर लि’स्ट पु’नरीक्ष’ण की घो’षण होने के बाद अब गांवों में इस बात पर चर्चा हो रही है कि कौन सा गांव आ’रक्षित होगा और कौन सा नहीं। अभी दा’वेदा’र पूरा मा’हौल इस लिए भी नहीं बना पा रहे हैँ क्यों’कि उन्हें यह नहीं मा’लूम इस वक्त जो सीट जिस वर्ग के लिए आ’रक्षि”त या अ’नारक्षि’त है, आ’गामी चुनाव में वह सीट किस वर्ग के लिए तय होगी। 2015 के पं’चायत चु’नाव में सीटों का आ’रक्षण नए सिरे से हुआ था। ऐसे में सं’भावना जताई जा रही है इस बार भी नए सिरे से आ’रक्षण होगा।

जानकारों के अनुसार वर्ष 2015 के चुनाव के बाद इस बार अब च’क्रा’नुक्रम आ’रक्षण का यह दूसरा चक्र होगा।

च’क्रानुक्रम आ’रक्ष’ण का अर्थ यह है कि आज जो सीट जिस वर्ग के लिए आ’रक्षित है, यथा’सम्भव अगले चु’नाव में वह सीट उस वर्ग के लिए आ’रक्षित नहीं होगी। चक्रा’नुक्रम के आ’रक्षण के व’रीयता क्रम में पहला नम्बर आएगा ए’सटी महिला। एसटी की कुल आ’रक्षि’त सीटों में से एक ति’हाई पद इस वर्ग की म’हिला’ओं के लिए आ’रक्षि’त होंगे। फिर बा’की बची एसटी की सीटों में ए’सटी महिला या पु’रुष दोनों के लिए सीटें आ’रक्षित होंगी। इसी तरह ए’ससी के 21 प्र’तिश’त आर’क्षण में से एक ति’हाई सी’टे एससी महिला के लिए आ’रक्षित होंगी और फिर ए’ससी महिला या पु:रुष दोनों के लिए।

उसके बाद ओबीसी के 27 फीसदी आ’रक्षण में एक तिहाई सीटें ओबीसी महिला के लिए तय होंगी फिर ओबीसी के लिए आ’रक्षित बाकी सीटें ओ’बीसी म’हिला या पु’रुष दोनों के लिए और बाकी अ’नारक्षि’त। अ’नारक्षि’त में भी पहली एक तिहाई सीट महिला के लिए होगी। आ’रक्ष’ण तय करने का आ’धार ग्राम पंचायत स’दस्य के लिए गांव की आ’बादी होती है। ग्राम प्रधान का आरक्षण तय करने के लिए पूरे ब्लाक की आ’बादी आधार बनती है। ब्लाक में आ’रक्षण तय करने का आ’धार जिले की आ’बादी और जिला पं’चायत में आ’रक्ष”ण का आधार प्रदेश की आ’बादी बनती है।

– मान लें कि किसी एक विकास खंड में 100 ग्राम पं’चायतें हैं। वहां 2015 के चुनाव में शुरू 27 ग्राम प्रधान पद पिछड़ा वर्ग के लिए आ’रक्षित किए गए थे। अब इस बार के पं’चाय’त चुनाव में इन 27 के आगे वाली ग्राम पं’चाय’तों के आबादी के अवरोही क्रम में (घटती हुई आबादी) प्रधान पद आ’रक्षित होंगे।

-इसी तरह अगर किसी एक विकास खंड में 100 ग्राम पंचायतें हैं और वहां 2015 के चुनाव में शुरू की 21 ग्राम पंचायतों के प्रधान के पद एससी के लिए आरक्षित हुए थे तो अब इन 21 पदों से आगे वाली ग्राम पंचायतों के पद अवरोही क्रम में एससी के लिए आरक्षित होंगे।