Categories
News Other

कोरोना : PM मोदी के काम सें कितनी संतुष्ट है जनता, हैरान कर देगा सर्वें का नतीजा.😳

खबरें

देश में कोरोना वायरस संक्रमण की रफ्तार लगातार तेज हो रही है। पिछले 21 दिनों में ही 10 लाख नए केस आ चुके हैं। कुल केस का आंकड़ा 20 लाख के पार हो चुका है। कोरोना से निपटने को लेकर विपक्ष सरकार पर हमलावर है तो केंद्र का दावा है कि सबसे ज्यादा प्रभावित देशों में भारत की तस्वीर अच्छी है। इस बीच इंडिया टुडे मैगजीन ने अपने ‘मूड ऑफ द नेशन’ यानी ‘देश का मिजाज’ सर्वे में यह जानने की भी कोशिश की कि कोरोना संकट से मोदी सरकार अब तक किस तरह निपटी है और राज्य सरकारों के काम को जनता किस तरह देखती है। इस सर्वे के कुछ नतीजों को इंडिया टुडे ग्रुप के न्यूज चैनलों पर शुक्रवार को प्रसारित किया गया। सर्वे के नतीजों की मानें तो कोरोना से निपटने को लेकर ज्यादातर लोग नरेंद्र मोदी सरकार से संतुष्ट हैं। सर्वे में 12,021 लोगों की राय ली गई। इसमें 19 राज्यों की 97 लोकसभा और 194 विधानसभा सीटों के लोगों को शामिल किया गया।

कोरोना संकट में 77% लोग पीएम मोदी के काम से संतुष्ट
सर्वे में सीधे-सीधे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेकर भी सवाल पूछा गया था कि कोरोना संकट से वह किस तरह निपट रहे हैं। सर्वे में हिस्सा लेने वाले 77 प्रतिशत लोग कोरोना से निपटने के लिए पीएम मोदी के उठाए गए कदमों से संतुष्ट मिले। इनमें से 29 प्रतिशत ने पीएम के काम को बहुत अच्छा तो 48 प्रतिशत ने अच्छा बताया। 18 प्रतिशत लोगों ने औसत तो 5 प्रतिशत लोगों ने खराब बताया।

43% को लगता है दूसरे देशों के मुकाबले भारत का काम बेहतर
कोरोना संक्रमण को लेकर विपक्ष की आलोचनाओं पर मोदी सरकार कहती आई है कि भारत की स्थिति तमाम पैमानों पर दूसरे देशों के मुकाबले बेहतर है। सर्वे में इस सवाल को भी रखा गया कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई में दूसरे देशों के मुकाबले भारत कहां खड़ा है। इसके जवाब में 43 प्रतिशत लोगों ने कहा कि भारत ने दूसरे देशों के मुकाबले बेहतर काम किया है। 48 प्रतिशत ने कहा कि दूसरे देशों और भारत के काम में कोई फर्क नहीं है। 7 प्रतिशत लोगों ने दूसरे देशों के मुकाबले भारत के काम को खराब बताया।

71% लोग राज्य सरकारों के काम से संतुष्ट
सर्वे में कोरोना के खिलाफ लड़ाई में राज्य सरकारों के काम को लेकर भी सवाल पूछा गया। इस महामारी से राज्य सरकारें कैसे लड़ रही हैं, इसके जवाब में 71 प्रतिशत लोगों ने अच्छा या बहुत अच्छा कहा। इनमें से 48 फीसदी ने अच्छा तो 23 फीसदी ने बहुत अच्छा करार दिया। 22 फीसदी लोगों ने राज्य सरकारों के काम को औसत जबकि 7 फीसदी ने खराब करार दिया।

63% ने माना, कोरोना संकट में घट गई आमदनी
सर्वे में कोरोना संकट का लोगों के व्यापार, नौकरी, आमदनी को लेकर भी सवाल पूछे गए। इसमें हिस्सा लेने वाले 63 प्रतिशत लोगों ने बताया कि कोरोना संकट के दौरान उनकी आमदनी घट गई है। 15 प्रतिशत लोगों ने बताया कि उनकी आमदनी पर कोई असर नहीं पड़ा है। 1 प्रतिशत लोग ऐसे भी रहें जिनकी आमदनी बढ़ी है। बात अगर बिजनस और नौकरी को हुए नुकसान की करें तो 22 प्रतिशत लोगों ने माना कि उन्हें ये झेलना पड़ा है।

प्रवासी मजदूरों को लेकर ‘राहुल गांधी की मांग’ से 71% सहमत
सर्वे के एक सवाल के नतीजे तो बता रहे हैं कि जनता कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी की एक अहम मांग से सहमत है। सर्वे में पूछा गया कि क्या केंद्र सरकार की तरफ से प्रवासी मजदूरों को डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर का लाभ देना चाहिए तो 71 प्रतिशत ने हां में जवाब दिया। सिर्फ 21 प्रतिशत ने इसका नहीं में जवाब दिया। 8 प्रतिशत लोगों ने इस सवाल को जवाब ही नहीं दिया। राहुल गांधी भी यह मांग करते आए हैं कि केंद्र सरकार को प्रवासी मजदूरों और लोगों के सीधे खाते में पैसे डालकर मदद करनी चाहिए।