Categories
Other

राम मंदिर निर्माण के लिए बुजुर्ग महिला ने 28 साल से नहीं खाया अन्न, अब अयोध्या जाकर तोड़ेंगी व्रत

उत्तर प्रदेश के अयोध्या में जल्द ही भगवान श्रीराम का भव्य मंदिर बनने जा रहा है. 5 अगस्त को होने वाले भव्य कार्यक्रम को लेकर एक ओर जहां अयोध्या में तैयारियां जोर शोर से जारी हैं वहीं देशभर में भगवान राम के भक्तों में खुशी की लहर है. इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा मंदिर निर्माण का भूमि पूजन किया जाएगा, जिसमें देशभर के साधु संत और मंदिर निर्माण के लिए वर्षों तक संघर्ष करने वालों को आमंत्रित किया गया है. लेकिन जबलपुर में रहने वाली 88 साल की उर्मिला चतुर्वेदी अभी भी न्योता मिलने की राह देख रही हैं.

उर्मिला चतुर्वेदी श्रीराम की ऐसी अनन्य भक्त हैं जिन्होंने बीते 28 सालों से राम मंदिर निर्माण का इंतजार किया है. करीब 28 साल इन्होंने संकल्प लेकर अन्न का त्याग कर दिया था. उम्रदराज होने के बावजूद आज भी उर्मिला चतुर्वेदी का ये संकल्प कायम है और वो केवल फल और जल ही ग्रहण करतीं हैं. उनका सपना है कि राम मंदिर निर्माण के समय वहां पहुंचकर श्रीराम का पूजन करें और फिर प्रसाद के रूप में अन्न ग्रहण करें. लेकिन इस अनोखी राम भक्त को मंदिर निर्माण के लिए होने वाले आयोजन में अभी तक कोई निमंत्रण नहीं मिला है. बावजूद इसके वह अपनी भक्ति में लीन है.

अपने घर पर रहकर ही उर्मिला सुबह शाम भगवान राम का पूजन करती हैं और राम मंदिर निर्माण के लिए प्रार्थना करती हैं. उनके परिवार के सदस्यों का कहना है कि अभी तक उन्हें न्योता नहीं मिला लेकिन वे फिर भी खुश हैं क्योंकि सालों की तपस्या के बाद राम मंदिर का निर्माण शुरू होने जा रहा है. हमें उम्मीद है कि जल्द ही भगवान श्री राम का भव्य मंदिर बनकर तैयार हो जाएगा, जो अयोध्या ही नहीं बल्कि पूरे देश की शान होगा. 

उन्होंने कहा कि यदि उन्हें इस दिव्य कार्यक्रम में शामिल होने का न्योता मिलता है तो एक आत्म संतुष्टि रहेगी कि उन्हें भी इस अवसर पर याद रखा गया और उनकी तपस्या का सम्मान किया गया. बहरहाल कोरोना संक्रमण के चलते उर्मिला चतुर्वेदी की उम्र को ध्यान में रखते हुए वह किसी से नहीं मिलती और अपने कमरे में ही पूरे समय रहती हैं. फिलहाल उर्मिला स्वस्थ हैं और 5 अगस्त को होने वाले भूमि पूजन का उन्हें बेसब्री से इंतजार है.