Categories
Other

विकास दुबे के एनकाउंटर में मारे जाने के बाद इस गांव के लोगों ने जश्न मनाते हुए किया ये अनोखा काम

गैंगस्टर विकास दुबे कानपुर का एनकाउंटर हो गया है और वो मारा गया. गुरुवार को जब से विकास दुबे की गिरफ्तारी हुई तब से हर जगह यही चर्चा थी कि कहीं विकास का एनकाउंटर न हो जाए.  विकास दुबे को कानपुर ला रही एसटीएफ के काफिले की गाड़ी आज सुबह दुर्घटनाग्रस्त हो गई. हादसा कानपुर टोल प्लाजा से 25 किलोमीटर दूर हुआ. गाड़ी दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद विकास दुबे भागने लगा. करीब आठ किलोमीटर भागने के बाद पुलिस ने उसका एनकाउंटर कर दिया.

विकास दुबे के एनकाउंटर के बाद कानपुर के बिकरू गांव के लोगों ने एक दूसरे को मिठाई बांटी. उनका कहना है कि पूरा इलाका आज बहुत खुश हैं. गांव के लोकल लोगों ने कहा कि वे ऐसा महसूस कर रहे हैं कि वे आजाद है. ये आतंक के युग का अंत है. कानपुर पुलिस के एडीजी प्रशांत कुमार ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि विकास दुबे को सरेंडर करने के लिए कहा गया लेकिन उसने पुलिस के ऊपर जान से मारने की नीयत से फायरिंग कर दी. बचाव में पुलिस ने विकास दुबे पर गोली चलाई. दरअसल, विकास दुबे को मध्य प्रदेश में गिरफ्तार किया गया था. मध्य प्रदेश से उसे कानपुर लाया जा रहा था. रास्ते में पुलिस की गाड़ी पलट गई. इस दौरान विकास ने भागने की कोशिश की.

इसके बाद पुलिस ने विकास से सरेंडर करने के लिए कहा लेकिन उसने पुलिस के ऊपर फायरिंग कर दी. पुलिस ने आत्मसुरक्षा के लिए फायरिंग की जिसमें विकास दुबे घायल हो गया. घायल होने के बाद उसे अस्पताल ले जाया गया जहां उसकी मौत हो गई. अब विकास दुबे के कोरोना टेस्ट होने के बाद पोस्टमार्टम किया जाएगा.