Categories
News

मधुमक्खी से पं’गा इस आदमी को पड़ा भारी, पूरे झुं’ड ने फिर जो किया देखें….

हिंदी खबर

इस शख्स की मधु’मक्खी ने का’टकर कर दी ऐसी हाल’त अगर कभि आपके साथ हो ऐसा तो तु’रंत कर ले ये उपाय लालिमा और खुजली महसूस होती है लेकिन घब’राने की बात नहीं है क्‍योंकि इससे शरीर और त्‍वचा को कोई गं’भीर नुकसान नहीं पहुंचता है।
जब मधुमक्‍खी का’टती है तो इसका डं’क स्किन के अंदर पहुंचता है जिससे तेज द’र्द और अन्‍य लक्षण सामने आने लगते हैं। कुछ लोगों को मधुमक्‍खी के डं’क से एल’र्जी ही होती है। कम एलर्जी हो तो त्वचा बहुुत लाल पड़ जाती है लेकिन अगर किसी व्‍यक्‍ति को मधुमक्‍खी के डं’क से ज्‍यादा गं’भीर ए’लर्जी हो तो उसे हीव्‍स (लाल मोटे चकत्ते), त्‍वचा पीली पड़ना, तेज खुजली, जीभ और गले में सूजन, सांस लेने में दि’क्‍कत, पल्‍स तेज होना, जी मचला’ना और उल्‍टी, दस्‍त, चक्‍क’र आना और बे’सुध होने जैसे लक्षण दिखते हैं।

शहद घा’व को भरने और द’र्द एवं खुजली को कम करने में मदद करता है। शहद से मधुमक्‍खी के डं’क का इलाज कर सकते हैं। थोड़ा-सा शहद लें और उसे प्रभावित हि’स्‍से पर लगाएं। अब इसे लगभग एक घंटे के लिए ढीली प’ट्टी से बांध दें।

मधुमक्खी के का’टने का घरेलू इलाज है बेकिंग सोडा

बेकिंग सोडा में कुछ बूंद पानी मिलाकर पेस्‍ट बनाकर डं’क वाले हिस्‍से पर लगाने से दर्द, खुजली और सूजन में कमी आती है।प्रभावित हि’स्‍से पर बेकिंग सोडा के पेस्‍ट की मोटी प’रत लगाएं। अब इस पर कम से कम 15 मिनट तक पट्टी बांधें और थोड़ी-थोड़ी देर में प’ट्टी बदलते रहें।

​एप्‍पल सिडर विनेगर

एप्‍पल सिडर विनेगर मधुमक्‍खी के डंंक को ख’त्‍म करने में मदद कर सकता है। प्रभावित हि’स्‍से को लगभग 15 मिनट के एप्‍पल सिडर विनेगर में डुबोकर रखें। आप प’ट्टी या कपड़े को विनेगर में भिगोकर भी डं’क वाली ज’गह पर लगा सकते हैं।