Categories
News Other

मध्य प्रदेश बीजेपी में 22 नेताओ की सूची में सिंधिया का स्थान देख भड़के समर्थक…कांग्रेस ने ली चुटकी….

उपचुनाव को लेकर बीजेपी ने तैयारी शुरू कर दी है। 24 विधानसभा सीटों पर प्रभारियों की नियुक्ति के बाद बीजेपी ने संचालन समिति और प्रबंध समिति की घोषणा की है। संचालन समिति में पार्टी ने 22 कद्दावर नेताओं को रखा है और प्रबंध समिति में प्रदेश के 18 नेता हैं। हाल ही में बीजेपी में शामिल हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया को भी संचालन समिति में जगह मिली है। बीजेपी में आने के बाद सिंधिया को पहली बार किसी सांगठनिक समिति में शामिल किया गया है।
संचालन समिति में कुल 22 लोगों को जगह मिली है। इसमें सभी कद्दावर नेताओं को जगह मिली है। ज्योतिरादित्य सिंधिया इस सूची में छठे नंबर पर हैं। इसे लेकर कांग्रेस ने तंज कसा है। क्योंकि ज्योतिरादित्य सिंधिया से ऊपर बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय का नाम है। ऐसे में सवाल यह भी है कि पार्टी में सिंधिया का कद कैलाश से क्या नीचे है।
पद का ‘ख्याल’ नहीं, BJP प्रदेश अध्यक्ष


छठे नंबर पर ‘महाराज’


बीजेपी ने संचालन समिति की सूची जारी कर दी है। इस सूची में पहले नंबर पर प्रदेश अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा हैं। दूसरे नंबर पर सीएम शिवराज, तीसरे पर केंद्रीय मंत्री थावरचंद गहलोत, चौथे पर नरेंद्र सिंह तोमर, पांचवें पर कैलाश विजयवर्गीय और छठे नंबर पर ज्योतिरादित्य सिंधिया हैं। सिंधिया के बाद केंद्रीय मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते का नंबर है।

कांग्रेस ने कसा तंज


संचालन समिति की सूची पर तंज कसते हुए कांग्रेस ने ट्वीट किया है कि अपमान करना बीजेपी की आदत, सहन करना सिंधिया जी की जरूरत। बीजेपी की चुनाव समिति में सिंधिया जी को छठे नंबर पर जगह मिली है। कहां तो कांग्रेस के राष्ट्रीय नेतृत्व के बगल में स्थान और कहा प्रदेश स्तर पर भी इतने निचले क्रम में जगह..? आखिर इतना सम्मान हजम कैसे हो रहा है?

बीजेपी की चुनाव समिति में सिंधिया जी को छठे नंबर पर जगह मिली है।
—कहाँ तो कांग्रेस के राष्ट्रीय नेतृत्व के बग़ल में स्थान और कहा प्रदेश स्तर पर भी इतने निचले क्रम में जगह..?

आख़िर इतना सम्मान हज़म कैसे हो रहा है..?


दीपक जोशी को भी जगह
वहीं, पूर्व मंत्री दीपक जोशी को भी संचालन समिति में जगह मिली है। दीपक जोशी 2018 के विधानसभा चुनाव में हाटपिपल्या सीट से चुनाव हार गए थे। अब कांग्रेस के मनोज चौधरी के बीजेपी में शामिल होने के बाद जोशी ने बगावती तेवर अख्तियार किए थे। जोशी ने कहा था कि अगर पार्टी ने मेरे आत्मसम्मान को महत्व नहीं दिया, तो मेरे पास सारे विकल्प खुले हुए हैं। वहीं, गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा हाल ही में पूर्व मंत्री माया सिंह, अनूप मिश्रा और नारायण सिंह कुशवाहा से मुलाकात की थी। संचालन समिति में इन
नेताओं को भी शामिल किया गया है।