Categories
धर्म

होली पर देव गुरू बृहस्पति और न्याय के देवता शनिदेव रहेंगे मकर राशि में, बन रहा है विशेष योग

होलिका दहन  कब है?
होलिका दहन के साथ ही रंगों का पर्व आरंभ हो जाता है. पंचांग के अनुसार इस वर्ष होलिका दहन 28 मार्च रविवार का किया जाएगा. इस दिन पूर्णिमा की तिथि रहेगी. होलिका दहन का शुभ मुहूर्त शाम को 6 बजकर 37 मिनट से शुरू होकर रात के 08 बजकर 56 मिनट तक रहेगा. रंगों की होली 29 मार्च 2021 सोमवार को फाल्गुन मास की कृष्ण पक्ष की प्रतिपदा तिथि को खेली जाएगी. इस दिन ध्रुव योग का निर्माण हो रहा है.

होली पर ग्रहों की स्थिति
पंचांग के अनुसार होली के पर्व के मौके पर चंद्रमा कन्या राशि में रहेंगे. शनि और देव गुरू बृहस्पति मकर राशि में विराजमान रहेंगे. यह स्थिति कई वर्षों बाद बन रही है. इसके अलावा शुक्र और सूर्य मीन राशि में रहेंगे. वहीं मंगल और राहु वृषभ राशि, बुध कुंभ राशि और मोक्ष के कारण केतु वृश्चिक राशि में रहेंगे. इस कारण से इस बार होली व्यापारी वर्ग और कामगारो में कुछ असंतोष की भावना रहेगी, कृषि में स्थिति सामान्य रहेगी, उद्दोग धंधे मंदी से उबरने लगेंगे लेकिन सरकार से असंतोष दिखाई देगा।

होलाष्टक (Holashtak) कब से आरंभ हैं?
22 मार्च 2021 से होलाष्टक आरंभ हो रहे हैं. होलिका दहन यानि 28 मार्च को होलाष्टक का समापन होगा. होलाष्टक में मांगलिक कार्यों को करना शुभ नहीं माना गया है. खरमास भी आरंभ हो चुके हैं जो 14 अप्रैल को समाप्त होंगे.