Categories
धार्मिक

सिर्फ तीन लौंग और किसी को भी कर सकते हैं आप अपने वश में …

धार्मिक

: लौंग से वशीकरण एक ऐसा वशीकरण टोटका है जिसकी मदद से किसी को भी अपने वश में किया जा सकता है। ऐसा हम नहीं कह रहे बल्कि तांत्रिक क्रियाओं में लौंग से वशीकरण जैसी चीजों को प्राथमिकता दी गई है।

कुछ लोग लौंग से वशीकरण को मानते भी हैं और कुछ इसे अंधविश्वास का नाम देते हैं। लेकिन कभी न कभी कुछ ऐसी चीजें भी होती हैं जो आपको यह उस प्रक्रिया में विश्वास करने पर मजबूर कर देती है जिसे लौंग वशीकरण टोटका कहा जाता है।

आइए जानते हैं लौंग वशीकरण टोटके के बारे में। माना जाता है कि लौंग के टोटके से आप किसी को भी अपने वश में कर सकते हैं।लेकिन लौंग वशीकरण टोटके के बारे में यह हिदायत दी गई है कि यह टोटका आप केवल किसी अच्छे कार्य के लिए करेंगे इसका दुरुपयोग नहीं करेंगे।

इसे भी पढ़ें: मकर संक्रांति 2018: यदि चाहते हैं शनि-राहु से मुक्ति तो ऐसे करें सूर्य को तिल अर्पित
सबसे पहले 3 लौंग, एक रुई की बाती के साथ 1 कटोरी देसी घी, माचिस, एक गिलास पानी और एक डिब्बी सिंदूर की रख लेँ। इसके लिए शुक्रवार का दिन सबसे अच्छा बताया गया है। इस दिन सुबह के समय 3 बजे उठें। स्नानदि करके उपर बताई हुई चीजों को रख लें।

अब 3 लौंग को सिंदूर की डिब्बी में रखें। रुई की बत्ती को घी में डालकर जला लें। फिर लौंग को सिंदूर की डिब्बी से निकालकर उसे एक गिलास पानी में डूबो दें।
इसके बाद “ऊं तत भार्वय् नमो नम, या रुद्र या मोहिनी कर, मैं अमन (जिस पर वशीकरण करना हो उसका नाम) सिद्ध नमो स्वाहा” मंत्र का 1100 बार जाप करें।
: दूसरे शुक्रवार को सिद्ध लौंग में दोबारा 11 बार वशीकरण मंत्र पढ़े और तीसरे शुक्रवार को उस लौंग का इस्तेमाल करें। वशीकरण करने वाले व्यक्ति के आसपास लौंग को रख दें। या फिर उसे आप उसके खाने में दें। इससे वह आपकी बातें मानने लगेगा।

लेकिन ध्यान रहे कि यदि किसी गलत इरादे से वशीकरण किया गया है तो उसका बुरा परिणाम आपको स्वयं भुगतना पड़ेगा।
वहीँ अगर लौंग के फायदों की बात करें तो गठिया रोग के मरीजों को ठंड के मौसम में ज्यादा दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। (Clove Benefits) जैसे-जैसे सर्दियां बढ़ती हैं गठिया के मरीजों के लिए परेशानी भी बढ़ती जाती है। (Clove Benefits) अगर आप भी गठिया रोग से परेशान हैं, तो यह उपाय आपके लिए कारगर साबित हो सकता है।

लौंग (Clove) गठिया रोग की बीमारी के लिए किसी रामबाण से कम नहीं है। लौंग (Clove Benefits) के सेवन से गठिया रोग में काफी हद तक आराम मिलता है। इतना ही नहीं यह एक आयुर्वेदिक उपचार है, जिससे और भी कई परेशानियां दूर हो जाती हैं।
लौंग के फायदे (Clove Benefits)
लौंग के सेवन से दर्द दूर हो जाता है। इसमें मौजूद यूजेनॉल ऑयल दांतों के दर्द में आराम पहुंचाता है।
लौंग गठिया रोग में जोड़ों में होने वाले दर्द व सूजन के लिए कारगर होता है। ऐसा इसलिए क्योंकि इसमें फ्लेवोनॉयड्स ज्यादा मात्रा में पाया जाता है।
लौंग के तेल को सूंघने से जुकाम, कफ, दमा, ब्रोंकाइटिस, साइनसाइटिस आदि समस्याओं में जल्द आराम मिलता है।
लौंग के नियमति इस्तेमाल से फेफड़े के कैंसर और त्वचा के कैंसर का खतरा कम रहता है।

बस या ट्रेन में सफर करते समय मुंह में लौंग रखने से फायदा होता है।
लौंग को पानी में उबाल कर पानी पीने से गैस और पेट दर्द की समस्या से छुटकारा मिलता है।
लौंग के तेल से सिर की मालिश करने से दर्द कम होता है।
लौंग के तेल का प्रयोग करने से संक्रमण का खतरा कम रहता है।