Categories
धर्म

शनिचरी अमावस्या : शनिदेव को प्रसन्न करने का बन रहा विशेष योग, शनिवार को साढ़ेसाती और ढैय्या से बचने का करें उपाय

शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए शनि अमावस्या का दिन शुभ माना गया है. अमावस्या की तिथि में की जाने वाली पूजा का जीवन में बहुत ही अच्छा फल प्राप्त होता है. पंचांग के अनुसार 13 मार्च को अमावस्या की तिथि है. इस अमावस्या को शनि अमावस्या, फाल्गुन अमावस्या और शनिचरी अमावस्या के नाम से भी जाना जाता है.

फाल्गुन मास की कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि का विशेष धार्मिक महत्व माना गया है. इस दिन व्रत रखने की भी परंपरा है. अमावस्या पर की जाने वाली पूजा से पितर प्रसन्न होते हैं. वहीं जीवन में आने वाली बाधाएं दूर होती हैं. शनिवार के दिन अमावस्या की तिथि होने के कारण यह दिन शनि देव की पूजा के लिए भी उत्तम माना गया है. शनिवार का दिन शनिदेव को समर्पित है. जिन लोगों पर शनि की साढ़ेसाती और शनि की ढैय्या चल रही है, उन्हें इस शनि अमावस्या पर शनि देव की पूजा करने से लाभ प्राप्त होता है.

Shani Amavasya 2021: शनिदेव को प्रसन्न करने का बन रहा विशेष योग, शनिवार को साढ़ेसाती और ढैय्या से बचने का करें उपाय