Categories
धर्म

सुहागरात के दिन फूलों से ही क्यूं सजाया जाता है बेड जानिए .?

धार्मिक ख़बर

चाहे कोई भी मजहब या धर्म क्यों न हो, विवाह के बंधन को किसी भी धर्म में सबसे पवित्र स्थान दिया गया है। विवाह न केवल दो आत्माओं का मेल होता है, साथ ही दो परिवारों में भी संबंध स्थापित होते हैं। विवाह के संबंध में पहली रात हर एक शादीशुदा जोड़े के लिए बहुत ही खास होती है। इस रात का इंतज़ार हर एक विवाहित जोड़ा करता है।

सुहाग रात के लिए बिस्तर को खुश्बूदार फूलों से सजाने की परंपरा सदियों से चली आयी है। बहुत लोगों के मन में यह जिज्ञासा तो अवश्य होगी, कि आखिरकार सुहाग रात में बिस्तर को रजनीगंधा और गुलाब के फूलों से ही क्यों सजाया जाता है। आइए, इस लेख के जरिये हम आपको इसके कारण से अवगत कराएंगे।

रजनीगंधा और गुलाब के फूल अपनी मनमोहक खुश्बू के लिए पूरी दुनिया के कोने कोने में मशहूर हैं। इत्र से लेकर गजरे तक, यहाँ तक कि दूल्हे का सेहरा बनाने के लिए भी गुलाब और रजनीगंधा के फूलों का इस्तेमाल किया जाता है।

सुहाग रात पर राजनीगंधा और गुलाब का प्रयोग ही क्यों?
लाल गुलाब को प्रेम का प्रतीक माना जाता है। सुहाग रात पर एक नया प्रेमी युगल जीवन भर के संबंध में बांधने वाला है। इसलिए प्यार के प्रतीक लाल गुलाब को तो मौजूद होना ही है।
इत्र और खुसबू की दुनिया में राजनीगंधा को ‘कामुक पुष्प’ के रूप में भी जाना जाता है। भारत में राजनीगंधा को सदियों से एक कामोद्दीपक के रूप में जाना जाता है। सुहाग रात के बिस्तर पर इसका प्रयोग कामेच्छा बढ़ाने के मकसद से किया जाता है।
इन दोनों फूलों की भीनी-भीनी खूसबू न सिर्फ चीजों को महकाती है, बल्कि आपको एक ताजेपन का भी एहसास कराती है। सुहागरात में बिस्तर को खूसबूदार फूलों से सजाने का एक सांकेतिक अर्थ भी है – कि लोग आपके वैवाहिक जीवन की मंगल कामना करते हैं, ताकि आपका वैवाहिक जीवन आगे चलकर सदा ऐसे भी खुशियों भरा और खिला खिला रहे और उसमे प्यार की खूसबू हमेशा महकती रहे।
किसी भी चीज़ को सजाने के लिए फूलों से अच्छा कोई और दूसरा विकल्प हो ही नहीं सकता है। फूल अपने रूप के लिए बहुत सुंदर तो लगेंगे ही, साथ ही साथ खूसबू से उस चीज़ को महकने भी लगेंगे।

ऐसे में वो चीज़ और भी ज्यादा अच्छी और आरामदायक होने लग जाती है। वही बात अगर बिस्तर को सजाने पर आती है, तो इससे अच्छा कोई और दूसरा विलक्प तो है ही नहीं। फूलों का रंग आपके लिए एक आरामदायक और सुकुनदेह वातावारण बनाएगा।

इसी के साथ साथ फूलों की खूसबू आपके बिस्तर के साथ साथ आपके पूरे कमरे को महकाएगी और आप इससे अच्छा भी महसूस करेंगे। आपको इससे अच्छी नींद भी आ सकती है।

जब बात सुहागरात पर आती है, तो इन फूलों के मायने और भी ज्यादा बढ़ जाते हैं। सुहागरात में फूलों की मनमोहक खुश्बू पति पत्नी के बीच पवित्र प्रणय के पलों में सहायक होती है। यह दोनों के बीच एक सुकून भरे पल और आरामदायक माहौल को पैदा कर सकती है।