Categories
धर्म

अगर भूल से भी करदिया है ये एक काम तो सारी कड़ी मेहनत पर फिर जाएगा एक बार मै पानी..

धर्म

अगर आपने कर दिया ये काम, तो सब अच्छाइयों पर फिर जाएगा एक झटके में पानी
खुशहाल जिंदगी के लिए आचार्य चाणक्य ने कई नीतियां बताई हैं। अगर आप भी अपनी जिंदगी में सुख और शांति चाहते हैं तो चाणक्य के इन सुविचारों को अपने जीवन में जरूर उतारिए।
अगर आपने कर दिया ये काम, तो सब अच्छाइयों पर फिर जाएगा एक झटके में पानी –
आचार्य चाणक्य की नीतियां और विचार भले ही आपको थोड़े कठोर लगे लेकिन ये कठोरता ही जीवन की सच्चाई है। हम लोग भागदौड़ भरी जिंदगी में इन विचारों को भले ही नजरअंदाज कर दें लेकिन ये वचन जीवन की हर कसौटी पर आपकी मदद करेंगे। आचार्य चाणक्य के इन्हीं विचारों में से आज हम एक और विचार का विश्लेषण करेंगे। आज का ये विचार अस्तित्व पर आधारित है।

किसी भी मनुष्य ने फॉलो कर ली ये 3 चीजें तो हर परिस्थिति में जीतना सौ फीसदी तय

‘आप किसी के लिए चाहे अपना वजूद दांव पर लगा दो। वह तब तक आपका है जब तक आप उसके काम के हो, जिस दिन आप उसके काम के नहीं रहोगे या कोई गलती कर दोगे उस दिन वो आपकी सारी अच्छाईयां भूलकर अपनी औकात दिखा देगा।’ आचार्य चाणक्य

आचार्य चाणक्य के कहने का अर्थ है कई बार मनुष्य दूसरों पर जरूरत से ज्यादा विश्वास करता है। विश्वास एक ऐसी चीज है जिसके टूटने पर इंसान ही टूट जाता है और जुड़ने पर रिश्ते बन जाते हैं। इस बात का हमेशा मनुष्य को ध्यान रखना चाहिए कि विश्वास और अंध विश्वास करने में बहुत थोड़ा लेकिन गहरा फर्क होता है। कुछ लोग अपने करीबियों या फिर कुछ गिने चुने लोगों पर इतना ज्यादा विश्वास करते हैं कि अपना वजूद ही दांव पर लगा देते हैं। ऐसे में सामने वाले का तो कुछ नहीं जाएगा लेकिन अगर आपका विश्वास टूट गया तो आप बुरी तरह से अंदर से टूट जाएंगे।

बच्चों को हमेशा करना चाहिए ये काम, ताकि पिता कर सकें फक्र

अगर आप किसी पर विश्वास करते हैं तो पहली बात तो उस पर अंध विश्वास बिल्कुल ना करें। दूसरा ये कि उसके लिए अपने वजूद को दांव पर ना लगाएं। क्योंकि कई बार विश्वास के नाम पर लोग सबसे ज्यादा धोखा देते हैं। ऐसे में सामने वाला आपके साथ तब तक रहेगा जब तक उसका काम ना हो जाए। जिस दिन आपका उससे काम निकल जाएगा वो आपका साथ छोड़ देगा। या फिर अगर आपने कोई छोटी सी भी गलती कर दी तो आपकी सारी अच्छाईयों को भूलकर आपको अपना असली रूप यानी कि औकात दिखा सकता है। इसी वजह से आचार्य चाणक्य का कहना है कि कभी भी किसी के लिए भी अपना वजूद दांव पर नहीं लगाना चाहिए।