Categories
Other

रिंकिया के पापा’ फेम मनो-ज तिवा.री के ……… का निधन, भोजपुरी इंडस्‍ट्री में शोक की लहर

खबरें

भोजपुरी सिनेमा (Bhojpuri Cinema) से दुखद खबर आ रही है. भोजपुरी म्यूजिक डायरेक्टर धनंजय मिश्रा (Dhananjay Mishra death) का निधन हो गया है. मनोज तिवारी का सुपरहिट गाना ‘रिंकिया के पापा’ इन्होंने ही कंपोज किया था. भोजपुरी स्टार पवन सिंह के ज्यादातर गाने धनंजय मिश्रा ने ही कंपोज किए हैं. भोजपुरी अभिनेत्री काजल राघवानी (Kajal Raghwani) ने सोशल मीडिया के माध्‍यम से श्रद्धाजंलि अर्पित की है. उन्‍होंने एक वीडियो भी शेयर किया है.

रिपोर्ट्स के अनुसार, धनंजय मिश्रा को मुंबई के कोकिलाबेन अस्पताल में भर्ती कराया गया था. उनकी तबीयत नाजुक थी. मुंह से अचानक खून आने के बाद उनका निधन हो गया. बता दें कि धनंजय मिश्रा ने भोजपुरी के अलावा टॉलीवुड इंडस्ट्री में भी काम किया था.

काजल राघवानी वीडियो में कहती नजर आ रही हैं,’ नमस्‍कार दोस्‍तों, आज एक बहुत दुखद घटना घटी है हमारी इंडस्‍ट्री में. भोजपुरी के महान म्‍यूजिक डायरेक्‍टर, जो एक बहुत अच्‍छे व्‍यक्ति थे, वो अब हमारे बीच नहीं रहे. धनंजय मिश्रा जी आप जहां कहीं भी हो, आपकी आत्‍मा को शांति मिले. बस भगवान से यही कामना करती हूं. लॉकडाउन के बाद आपके साथ काम करने की बहुत इच्‍छा थी, लेकिन यह अधूरी रह गई.’

उन्‍होंने वीडियो शेयर करते हुए कैप्‍शन में लिखा,’ निश्चय ही यह एक बहुत दुखद सूचना है! कम उम्र में उनका यूं जाना पीड़ित करता है! Industry को उनकी कमी हमेशा सालती रहेगी! मेरी विनम्र श्रद्धांजलि! भगवान उनकी आत्मा को शांति दे. और इस कठिन समय में उनके परिवार को दुख सहने के सामर्थ्य प्रदान करे.’

धनंजय मिश्रा ने कई चर्चित भोजपुरी फिल्‍मों के गाने कंपोज किया है. जिनमें लव मैरिज, जय वीरू, दबंग सरकार, संघर्ष, नागराज, कसम पैदा करनेवाले की, निरहुआ सटल रहे, भूमिपुत्र, दरोगाजी चोरी हो गईल और श्रीमान ड्राईवर बाबू शामिल है.

गौरतलब है कि संगीतकार 1 जून को वाजिद खान का निधन हो गया था. वाजिद खान के यूं अचानक चले जाने से पूरी फिल्‍म इंडस्‍ट्री स्‍तब्‍ध है. फिल्म इंडस्ट्री में साजिद वाजिद की जोड़ी के रूप में मशहूर वाजिद खान के निधन पर शोक प्रकट करते हुए इसे फिल्म तथा संगीत उद्योग को एक भारी क्षति बताया है. लॉकडाउन की वजह से जानेमाने संगीतकार के अंतिम संस्कार में परिवार के अलावा कुछ करीबी ही शामिल हो पाए. वाजिद का पार्थिव शरीर वर्सोवा के कब्रिस्तान में सुपुर्द-ए-खाक किया गया.