Categories
Other

भारत का वह देश जहॉ हनुमान जी का नाम लेना भी माना जाता है सबसें बड़ा पाप, वजह जान रह जाओगें दंग..

धर्म

हनुमान जी भारत में सबसे अधिक पूजे जाने वाले देवताओं में से एक हैं। खासकर युवाओं में हनुमान जी को सबसे ज्यादा इष्ट माना जाता है। पूरे भारत में हनुमान जी के कई भव्य मंदिर हैं जहाँ मंगलवार और शनिवार को मेले जैसा माहौल रहता है। भक्त अपने पसंदीदा हनुमान जी के दर्शन करने जाते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि भारत में एक गाँव ऐसा भी है जहाँ हनुमान जी का एक भी मंदिर नहीं है। यहां तक ​​कि मंदिर से दूर हनुमान जी का नाम लेना भी पाप माना जाता है। अब हम जानते हैं कि ऐसा क्यों है।

यह उत्तराखंड के चमोली में स्थित एक गाँव में होता है। इस गाँव में हनुमान जी की एक भी मूर्ति नहीं है। इस गाँव में फैले हनुमान जी के प्रति घृ’णा है। जब मेघनाद के बाणों से लक्ष्मण जी घायल हो गए, तब वैद्य जी ने हनुमान जी को हिमालय से संजीवनी जड़ी बूटी लाने के लिए भेजा था। हनुमान जी उत्तराखंड के चमोली जिले में स्थित द्रोणागिरी पर्वत पर पहुंचे। तब हनुमान जी ने संजीवनी की जगह पूरे पहाड़ को उखा’ड़ फेंका। तब से इस गांव के लोग हनुमान जी से ना’राज हैं और यह परंपरा सदियों से चली आ रही है।

आपको यह जानकर काफी है’रानी जरुर हो रही होगी लेकिन यह गांव स’दियों से हनुमान जी की पूजा नहीं करता। क्योंकि हिंदू धर्म को व’रीयता देने वाले देश में हनुमान जी की पूजा कैसे नहीं होती है बल्कि हनुमान जी को सभी मु’सीबतों का निवा’रण करने वाला कहा जाता है। कहते हैं कि अगर आप किसी समस्‍या या सं’कट में फं’से हैं तो हनुमान जी की पूजा कर लें, वो आपके सारे दु’ख दूर करेंगें और आपके ऊपर अपनी कृपा बनाए रखेंगें।