Categories
धर्म

जिदंगी भर सफलता के लिए तरसते है इस राशि के लोग…

धार्मिक खबर

सफलता हेतु लालसा या उमंग होना अति आवश्यक है. आवशयकता से अधिक लालसा होना अच्छा नहीं और कम होना भी ठीक नहीं है | यह तो सभी जानते है हर चीज की “अति” बुरी होती है | जरूरत से अधिक लालसा होने पर यदि उतनी सफलता न मिले तो इंसान निराश हो जाता है और कम उमंग होने पर अधिक सफलता हाथ नहीं लगती है |

कई लोग अधिक परिश्रम करते रहते है और उतनी सफलता उन्हें नहीं मिल पाती | ऐसा क्यों ? क्या आपने कभी सोचा है कि कामयाब व्यक्ति में ऐसे क्या गुण होते है जो उन्हें सफल बनाते है ? और भीड़ में अपनी ख़ास पहचान बनाते है ? यदि आप उन सिद्धांतो को नहीं जानते तो उन्हें ढूढने का प्रयास करे और सफलता की सीढ़िया आप भी चढ़े | पता चल जाएगा की लालसा या उमंग से व्यक्ति इस प्रकार कामयाबी हासिल कर सकते है.

*. उम्मीद से अच्छा काम करने का प्रयास (Try) करें। तभी आप सफल होंगे | अच्छा काम तो बहुत से लोग करते है पर उम्मीद से अच्छा सभी नहीं करते | ऐसे में वही सफल होते है जो उम्मीद पर खरे उतरते है |

*. कार्यालय (Office) में या व्यवसाय में तभी आगे बढ़ सकते है यदि आप क्षमता से अधिक काम करे | यदि आप कामकाज़ी है तो अपनी क्षमता से ज्यादा काम करे ताकि पदोन्नति की राह में कोई रुकावट ना आ सके |

*. हमेशा (Always) डरते ही न रहे की कुछ ग़लत न हो जाये | ऐसे लोग कुछ कर ही नहीं पाते, फिर कामयाबी कहा मिलेगी | इसलिए अपनी रचनात्मक क्षमता का प्रयोग कर कुछ करने का प्रयास करें |

*. अपने सीमित (Limited) दायरे से बाहर निकलकर कुछ करने का प्रयास करे ताकि पदोन्नति पा सके | अपने काम तो निपटाए ही, कुछ नया भी सीखें और करें |

*. जब आप घर छोड़कर बाहर काम के लिए निकले तो व्यक्तिगत समस्याओं को घर पर ही छोड़ दे | यदि आप उस बोझ को लिए हुए काम करेंगे तो Work में मन नहीं लगेगा और आपका प्रदर्शन (Performance) भी ठीक नही होगा |

*. अपने से सीनियर कर्मचारी के पास बार बार अपनी समस्याएँ लेकर न जाए, इसका आपके व्यक्तितत्व पर उल्टा प्रभाव पड़ेगा और एक दिन उन्हें महसूस होगा की फलां व्यक्ति अपना दायित्व निभाने के योग्य नहीं है |

*. मित्र (Friend) उन्हें ही बनाये जो सकारात्मक (Positive) नजरिया रखते हो | वे आवश्यकता पड़ने पर आपको सही मार्ग दिखायेंगे और हर कदम पर आपकी मदद भी करेंगे |

*. अपना नज़रिया भी आशावादी रखें ताकी छोटी-छोटी परेशानियाँ पर आसानी से काबू पा सके | परेशानियों से न घबरा कर अपनी लालसा को पूरा करने का भरसक प्रयास करें |

*. अधिक और कम बोलना दोनों ही बातें ठीक नहीं है | ज़्यादा बोलने वाले को बातूनी या चापलूस समझा जाता है और कभी – कभी अधिक बोलने से कुछ गलत भी निकल जाता है जो नुकसान पहुँचा सकता है और कम बोलने वाले को घमंडी या अक्षम माना जाता है ! इसलिए अपने विचारो को व्यक्त तो करे पर संभलकर |

*. कामयाबी हमेशा पिछले कामों का पुरस्कार नहीं होती | यह भविष्य हेतु लक्ष्य (Goal) पाने का रास्ता भी है वहीँ इसलिए काम दिल से करिए और देखिए, क़ामयाबी आपके क़दम चूमेगी |

जीवन में सफल होने के लिए कुछ जरुरी और आसान टिप्स

मदद की भावना (Helpful Feeling) –:

हमें अपनी जीवन में लोगों के प्रति अपने मन में मदद करने का भाव रखना चाहिए | अब लोगो की यहाँ यह सोच है की हम किसी दूसरे की Help क्यों करें तो मान लीजिए की यही सोच सब लोगो की हो जाये तो ज़रा सोचिए किसी भी वस्तु की आप को सख्त जरूरत हो और वह वस्तु आपको मांगने पर भी कोई आपकी मदद ना करे तो उस समय हमें कैसा लगेगा या प्रतीत होगा |

शायद कोई भी नहीं चाहता है की लोग हमारी Help ना करें क्योंकि आवश्यकता हर मनुष्य की ज़रूरत होती ,है पता नहीं कब और कहाँ किसी दूसरे की Help की जरूरत पड़ जायें | अगर हमें दुसरो से मदद की इच्छा रखते है तो हमें दुसरो के प्रति मदद करने की इच्छा हमारे मन में रखने की आवश्यकता है |

हमेशा सच बोलना (Always Speak Truth) –:

मनुष्य को हमेशा सच बोलना और सच्चाई का साथ देना चाहिए | झूठ ज़्यादा देर नहीं टिक पाता है | बड़े से बड़े महापुरुष या व्यक्ति को हम देखे तो वह अपने जीवन में हमेशा सत्य पर चलने का ही मार्ग दिखाते है, वह बुराई का मार्ग पर चलने के लिए कभी नहीं कहते है | सच बोलना महापुरुषों की निशानी है और हमें भी हमेशा सच के मार्ग को चुनना चाहिए |

आज के युग की बात करे तो लोग कहते है की क्या करे यार ! अपना काम बनाने के लिए झूठ का सहारा लेना पड़ता है. यही बात लोग जब कहते है तो लोग सच बोलने की अपनी शक्ति को छुपाते है | परन्तु हम सत्य बोलकर किसी के काम को करते है तो हमें Only एक बार सच बोलने की हिम्मत करनी पड़ती है और बार – बार झूठ बोलने से बच जाते है |

बदले की भावना को छोड़ दे ( Leave The Feeling Of Exchange) –:

हमें बदले की भावना को हमेशा – हमेशा के लिए छोड़ देनी चाहिए | अकसर देखा जाता है की लोग हमारे साथ थोड़ा गलत व्यवहार करते है तो हम उनकी गलतियों को माफ़ नहीं करते है बल्कि उन से बदला लेने के तरीके ढूंढते रहते है और यही बदला लेने की हमारी जिद्द आगे चलकर हमारे जीवन का एक हिस्सा बन जाती है, छोटी से छोटी बात पर हमें गुस्सा आने लगता है | यदि हम अपने गुस्से पर काबू पाना सीख ले तो हम बड़ी से बड़ी समस्या का सामना आसानी से कर सकते है |

एक कहावत यह भी है की जिसने अपने गुस्से पर काबू पा लिया उसने दुनिया की सारी समस्या को हल करने की क्षमता उसके पास और वह लोगो का दिल आसानी से जीत सकता है |

हमेशा बड़ो का आदर और उनका सम्मान (Always Respect For Elders & Their Achievement) –:

हमें हमेशा अपनों से बड़ो का आदर करना चाहिए और उनके पैरो को छू कर आशीर्वाद लेना चाहिए और अपने से छोटो के साथ प्यार से पेश आना चाहिए | लेकिन जब अपने से बड़ो की Respect करता है तो उनके आशीर्वाद का Benefit पाता है |

अगर उनके जीवन में कोई Problem आती है तो यह आशीर्वाद उनके लिए ऊर्जा का कार्य करता है जो आगे बढ़ने के लिए हमें प्रेरित और हमारे अंदर एक नया जोश पैदा करता है इसलिए हमें जब भी बजुर्गो के सेवा करने का Chance मिले तो हमें उनके सेवा करनी चाहिए और उनका आशीर्वाद प्राप्त करना चाहिए |

त्याग करने की भावना (Feeling Of Dan) –:

हम में त्याग की भावना होनी चाहिए | यदि देखा जाए तो इस कलयुग में अक्सर अपने ही परिवार के लोग छोटी से छोटी बात पर जैसे की ज़मीन, धन, घर का बंटवारा आदि पर आपस में लड़ते – झगड़ते रहते है. इसके पीछे यह कारण है की जब सभी लोग अपने हितो में ध्यान रखते है तो उन्हें दुसरो की परवाह या चिंता समाप्त हो जाती है और यह किसी एक परिवार में नहीं बल्कि यह कहानी आजकल घर घर में हो रही है | जिसके कारण हम लोग आपस में लड़ते रहते है |

परन्तु जब माता-पिता अपने सभी बच्चों का पालन-पोषण एक साथ करते है तो कभी भी उन बच्चो में लड़ाई नहीं होती है अगर हो भी जाती है तो माँ बाप अपने हिस्से की वस्तु उन्हें देने के लिए हमेशा Ready रहते है जिस से उनका परिवार हंसी – खुशी से अपनी Life व्यतीत करते है |

तो हम सभी अपनो की ख़ुशी के लिए एक छोटा सा त्याग नहीं कर सकते क्या, यदि हां तो अपने से दूर होने वाला भी हमें अपना सकता है इसलिए हमें मन में त्याग की भावना जरूर रखनी चाहिए. मैं उम्मीद करता हूँ की आपको इस आर्टिकल से कुछ जरुर सीखने को मिला होगा.

नयीचेतना.कॉम में ” क्यों आसानी से नहीं मिलती सफलता – Safalta Kyo Nahi Milti Article ” Share करने के लिए विजय जी का बहुत-बहुत धन्यवाद. हम विजय पाल जी को बेहतर भविष्य के लिए शुभकामनायें देते है और उम्मीद करते है की उनकी अन्य रचनाएँ आगे भी इस ब्लॉग पर प्रकाशित होंगी.

@ हमारे Facebook Page को जरूर LIKE करे. आप हमसे Youtube पर भी जुड़ सकते है.

Strong Relationships In Hindi

COMMENTS
gaurav kapoor says

bahut accha article hai .keep posting

Deependra says

So beautiful in our life .
Thanks so much

Amul Sharma says

Drihita says

Sandeep Pawar says

Very nice blog…

Sandeep jain says

Article se…….

☺☺☺☺☺

विजय पाल says

Nyc article bhai

Thank you so much

Comment

Name *

Email *

Website