Categories
धार्मिक

साढ़े साती के प्रभाव को कम करें….इस अचूक उपाय द्वारा

आप की जो कोई भी राशि हो यदि शनि आकाश मंडल में गोचर करते हुए आप की राशि से एक पीछे वाली राशि में आते हैं तो शनि की साढ़े साती आरंभ हो जाती है और जब आप की राशि में से ही शनि देव गोचर करते हैं तो यह साढ़े साती का मध्य भाग होता है इस समय शनि अपने फल तीव्रता से देते हैं उसके बाद आप की राशि के अगली वाली राशि में शनि गोचर करते हैं तो याद साढ़े साती का अंतिम भाग होता है।

शनि देव व्यक्ति को उसके द्वारा किये हुए कर्मो का फल ही तीव्रता से देते हैं चाहे वह कर्म आप ने इस जन्म में करें हो या पूर्व जन्म में।

साढे़ साती का प्रभाव कम करें

हनुमान चालीसा पढ़ कर आप शनि देव को खुश कर सकते हैं और साढे साती का प्रभाव कम करने में सफल हो सकते हैं। कहानी के मुताबिक हनुमान जी ने शनी देव की जान की रक्षा की थी, और फिर शनि देव ने खुश हो कर यह बोला था कि वह आज के बाद से किसी भी हनुमान भक्‍त का कोई नुकसान नहीं करेगें।