Categories
धार्मिक

बसंत पंचमी के दिन सिंदूर चढ़ाने से होती है धन धान्य की वृद्धि ,खुलेगे धन आने के मुख्य द्वार,करे इस तरह से पूजा…..

धार्मिक

Vasant Panchami 2021: उज्जैन (नईदुनिया प्रतिनिधि)। धर्मधानी उज्जयिनी में 16 फरवरी को वसंत पंचमी मनाई जाएगी। ज्योतिर्लिंग महाकाल मंदिर में पुजारी भगवान महाकाल को वासंती पुष्प के साथ गुलाल अर्पित करेंगे। शहर के पुष्टिमार्गीय वैष्णव मंदिर में 40 दिवसीय फाग उत्सव की शुरुआत होगी। गोपाल मंदिर में भगवान को केसरिया भात का भोग लगेगा। सांदीपनि आश्रम में विद्या आरंभ संस्कार होंगे।

राजाधिराज भगवान महाकाल के आंगन में सबसे पहले ऋतुराज वसंत का स्वागत होगा। तड़के चार बजे भस्मारती में पुजारी भगवान महाकाल को केसर मिश्रित जल से स्नान कराएंगे। पश्चात नए वस्त्र, आभूषण से श्रगार कर भगवान को सरसों के पीले फूल के साथ हर्बल गुलाल अर्पित की जाएगी। इधर, पुष्टिमार्गीय वैष्णव मंदिरों में वसंत पंचमी में 40 दिवसीय भाग उत्सव की शुरुआत होगी।

मंदिर के मुखियाजी 40 दिन तक राजभोग आरती में अबीर गुलाल से होली खिलाएंगे। सिंधिया देव स्थान ट्रस्ट के प्रसिद्ध गोपाल मंदिर में परंपरा अनुसार वसंत पंचमी मनाई जाएगी। पं.अर्पित जोशी ने बताया कि सुबह गोपालजी को केसर के जल से स्नान कराया जाएगा। पश्चात केसर, चंदन से श्रृंंगार कर केसरिया वस्त्र धारण कराए जाएंगे।