Categories
धार्मिक

नारियल का यह उपाय करने से नहीं होगी धन-धान्य की कमी..

धार्मिक समाचार

नारियल को संस्कृ’त में श्रीफल कहते हैं। श्रीफल यानी भगवान का फल। नारि’यल फोड़ने का मतलब है कि आप अपने अहं’कार और स्व’यं को भगवान के सामने सम’र्पित कर रहे हैं। माना जाता है कि ऐसा करने पर अज्ञानता और अहंकार का कठोर कवच टूट जाता है और ये आत्मा की शुद्ध’ता और ज्ञान का द्वार खोलता है, जिससे नारियल के सफेद हिस्से के रूप में देखा जाता है। कहते नारियल आपकी किस्म’वत भी बदल सकता है, आइए जानें कैसे?

एक समय हिंदू धर्म में मनु’ष्य और जानवरों की बलि सामा’न्य बात थी, तभी आदि शंकरा’चार्य ने इस अमा’नवीय परंपरा को तोड़ा और मनुष्य के स्थान पर नारियल चढ़ाने की शुरुआत की। नारियल कई तरह से मनुष्य के मस्ति’ष्क से मेल खाता है। नारियल की जटा की तुलना मनुष्य के बालों से, कठोर कवच की तुलना मनु’ष्य की खोपड़ी से और ना’रियल पानी की तुलना खून से की जा सकती है। साथ ही नारियल के गूदे की तुलना मनु’ष्य के दिमाग से की जा सकती है। कहते हैं कि अगर किसी को बुरी लग जाती है तो उसे नारियल की मदद से उता’रा जाता है।

एक नारियल में व्य’क्ति के लंबाई के बराबर के लाल धागे को नारियल पर लपेट’कर उसे उसके सिर पर सात बार उसार घुमाएं और पास के किसी जल स्रोत में बहा दें। नजर या उता’रा तुरंत दूर हो जाएगा।

कई लोग शनि की छाया के का’रण जीवन में कई तरह की परेशा’नियों का सामना करते हैं, खुद को शनि की छाया से दूर करने के लिए एक नारि’यल, जौ और काले उडद की दाल को एक साथ ले लें। इसे सिर के चारों को 7 बार घुमा’कर नदी में बहा दें।

मंगलवार के दिन चमेली का तेल और सिंदूर के पेस्ट से नारि’यल पर स्वा’स्तिक बनाएं। अब इसे भगवान गणेश की प्रतिमा पर चढ़ा कर ‘ऋणमो’चक स्तोत्र’ का उच्चारण करें। वित्तीय सम’स्या हल होने लगेगी।

ग्यारह लघु नारियल मां लक्ष्मी के चरणों में रखकर ऊं महा’लक्ष्म्यै च विद्महे विष्णु’पत्नीं च धीमहि तन्नो लक्ष्मी प्रचोदयात् मंत्र का जाप करें। दो माला जाप करने के बाद एक लाल कपड़े में उन लघु नारियलों को लपेट कर तिजोरी में रख दें व दीपा’वली के दूसरे दिन किसी नदी या तालाब में विस’र्जित कर दें। ऐसा करने से धन लाभ के योग बनते हैं।

धन, वैभव व समृ’द्धि पाने के लिए 5 लघु नारियल स्थापित कर, उस पर केसर से तिलक करें और हर नारियल पर तिलक करते समय 27 बार नीचे लिखे मंत्र का मन ही मन जाप करते रहें- मंत्र- ऐं ह्लीं श्रीं क्लीं।

अगर आप चाहते हैं कि आपके घर में कभी धन-धान्य की कमी न रहे और अन्न का भं’डार भरा रहे तो 11 लघु नारि’यल एक पीले कपड़े में बांध’कर रसोई घर के पूर्वी कोने में बांध दें। इससे आपकी मनोका’मना पूरी हो स’कती है।