Categories
News

भारत-चीन तनातनी के बीच हुआ……, बिगडें हालात आज रात हो सकता है बड़ा…..

खबरें

वायुसेना चीफ ने कहा कि भारत और ची’न के बीच किसी तरह के सं’घर्ष वै’श्विक मो’र्चे पर ची’न के लिए अच्छा नहीं होगा. अगर चीन की मह’त्वाकां’क्षा वै’श्विक है तो यह उसके बड़ी योजना के लिए बेहतर नहीं है. उत्तर में उसकी कार्र’वाई के चीनी म’कसद से क्या संभव हो पाएगा? यह महत्वपूर्ण है कि हम उसकी पहचान करें कि उसने आखिर क्या हासिल किया.

वायुसेना प्रमुख ने मंगलवार को कहा कि पा’किस्तान तेजी के साथ पा’किस्तानी नी’तियों को मो’हरा बन गया है. चीन-पा’किस्तान आ’र्थिक ग’लियारे के तहत बढ़ते कर्ज के चलते उसकी भविष्य में सै’निकों पर निर्भरता बढ़ जाएगी.

उन्होंने कहा कि अ’फगानिस्ता’न से अमेरिका का बाहर निकलना इस क्षेत्र में चीन का अपना दा’यरा बढ़ा ने का प्रत्यक्ष और पा’किस्तान के जरिए विकल्प दे दिया है. भ’दौरिया ने कहा कि वैश्विक भू-राजनैतिक मोर्चे पर अ’निश्चितता और अ’स्थायित्व ने ची’न को बढ़ती शक्ति के प्र’दर्शन का मौ’का दे दिया है.

एबीपी न्यूज़ के सवाल पर वायुसेना प्रमुख आरके एस भदौरिया ने कहा कि वास्तविक नि’यंत्रण रेखा पर चीन ने से’ना के एयर स्पोर्ट से लेकर मिसाइलों तक तग’ड़ा जमावड़ा किया है. लेकिन चिंता की ज़रूरत नहीं क्योंकि ची’नी तै’नाती से मुक़ाबले के लिए भारतीय वायुसेना ने किया हर ज़रूरी उपाय किए हैं.

भारत और ची’न के बीच पिछले आठ महीने से जारी त’नातनी के बीच वा’युसेना प्रमुख आर.के. एस भदौरिया ने कहा कि बी’जिंग ने अपनी आर्मी के लिए भारी ता’दाद में वा’स्तविक नि’यंत्रण रेखा (एलएसी) पर ह’थियारों की तैना’ती कर रखी है.

भदौरिया ने कहा कि वहां पर भारी संख्या में रडार्स, जमीन से आसमान और आसमान से आसमान में मा’र करने वाली मि’साइलों की तै’नाती की गई है. उनकी तै’नाती मजबूत रही है. हमने सभी आ’वश्यक क’दम उठाए हैं.