Categories
News

वा’स्तु टि’प्स: झा’ड़ू के सा’थ बि’ल्कुल ना क’रें ये का’म, वर’ना हो सक’ते है ये ब’ड़े नुक’सान…

धार्मिक खबर

वा’स्तु (Vastu) का म’नुष्य के जी’वन में बहु’त ही गह’रा प्रभा’व पड़’ता है. कि’सी भी व’स्तु का सका’रात्मक प्रभा’व प’ड़ना है या नका’रात्मक प्र’भाव हो’ना है य’ह बा’त उस’की स’ही दि’शा के चु’नाव प’र टि’की हो’ती है. घ’र खरी’दने से लेक’र घ’र में र’खी वस्तु’ओं को सु’सज्जित कर’ने त’क में स’ही दि’शा का चु’नाव बहु’त ही प्रभा’वशाली हो’ता है. य’दि आ’प गल’त दि’शा चु’न क’र कि’सी सा’मान को व’हां र’ख दे’ते हैं तो उ’सके नका’रात्मक प्रभा’व को आ’पको झेल’ना ही प’ड़ेगा. घ’र में मौजू’द छो’टा सा छो’टा सा’मान आ’पको स’ही दि’शा में रख’ना चाहि’ए. य’हां त’क की घ’र में र’खे कूड़ा’दान को भी स’ही दि’शा में रख’ना ज’रूरी हो’ता है. वा’स्तु के आनु’सार य’दि आ’प घ’र में कु’ड़ादन (Dustbin) स’ही दि’शा में न”हीं रख’ते हैं तो आ’पको 3 ब’ड़े नुक’सान उठा’ने प’ड़ स’कते हैं.

करि’यर में रुका’वट
वा’स्तु के अनु’सार घ’र में र’खे कूड़ा’दान को क’भी भी उ’त्तर दि’शा में न’हीं रख’ना चा’हिए. य’ह घ’र में नकारा’त्मकता फैला’ता है. य’दि आ’प उत्त’र दि’शा में कूड़ा’दान र’खते हैं तो उ’से तु’रंत ही व’हां से ह’टा लें क्यों’कि य’ह आ’पके करि’यर में रुकाव’ट ला स’कता है. इस’से आप’को ध’न हा’नि भी हो स’कती है. ऐ’सा हो’ने से आ’पके हा’थों से अ’च्छे करि’यल के अ’वसर भी नि’कल सक’ते हैं.


न’हीं मिल’ती नौ’करी


अ’गर आ’प बहु’त दि’नों से नौक’री की त’लाश में हैं औ’र आ’पको बहु’त को’शिश क’रने के बा’द भी नौ’करी न’हीं मि’ल रही है तो आ’पको स’बसे पह’ले द’खना चा’हिए कि आप’के घ’र में मौ’जूद कूड़ा’दान कि’स दि’शा में र’खा है. वा’स्तु के अनुसा’र उ’त्तर दि’शा में कूड़ा’दान र’खने से नौ’करी के अव’सर प्रा’प्त न’हं हो’ते हैं. आप’के हा’थों में अव’सर आ’ता है ले’किन व’ह आप’को मि’ल न’हीं पा’ता. इस’से आ’पमें मा’नसिक त’नाव भी ब’ना रह’ता है.

फं’स जा’ता है ध’न
अग’र आ’पका पै’सा कि’सी प्रॉ’पर्टी या फि’र कि’सी ज’गह या व्य’क्ति के पा’स फं’सा हु’आ है औ’र ब’हुत को’शिश कर’ने के बा’द भी न’हीं निक’ल र’हा है तो अ’पने घ’र में र’खे कूड़े’दान की दि’शा दे’खें. अ’गर आ’पने उत्त’र दि’शा में कूड़ा’दान र’खा है तो य’ही का’रण है जो आप’का पै’सा फं’सा हु’आ है. आ’पको कूड़ेदा’न की दि’शा बद’लनी हो’गी. वै’से कुड़ा’दान स’ही दि’शा में न र’खा हो तो इस’से दू’सरों से आप’के सं’बंध भी बिग’ड़ जा’ते हैं.