Categories
News

दम’दार प्रे’मिका: दू’ल्हे को बी’च बा’रात से ले ग’ई प्रेमि’का, देख’ते र’हे बारा’ती, प्रेमि’का बे दु’ल्हन के सा’मने ही दू’ल्हे के सा’थ कि’या ये..

हिंदी खबर

गाजि’याबाद (Uttar Pradesh) । ब’ग्गी प’र बैठ’कर हो’ने वा’ले ससु’राल जा र’हे दू’ल्हे को उस’की गर्लफें’ड ने रो’क  लि’या। प’हले नो’ट दू’ल्हे के सि’र प’र रखक’र फो’टो खीं’चवाई, फि’र, कु’छ ऐ’सा क’हीं की दू’ल्हा ब’ग्गी से उतर’कर उ’सकी का’र में बै’ठ ग’या। बा’राती कु’छ सम’झ पा’ते की वो उ’से बैठा’कर दि’ल्ली के लि’ए च’ल दी। ऐ’से में बी’च बा’रात बि’न दुल्ह’न के ही वा’पस लौ’ट ग’ई। य’ह माम’ला ए’क दि’न प’हले उ’झानी इला’के का है। 

यु’वक दि’ल्ली में रह’कर नौक’री कर’ता था। व’हां उ’सकी मुला’कात व’हां ए’क युव’ती से हु’ई। दो’नों ने व’हीं प’र शा’दी क’र ली। इध’र, यु’वक ने अ’पने परिज’नों से य’ह बा’त छि’पाये र’खी। 

परि’वार वा’लों ने उस’की शा’दी क’छला रो’ड निवा’सी ए’क युव’ती के सा’थ त’य क’र दी। वो क’रीब 10 दि’न प’हले य’हां पहुं’चा तो परिज’नों ने उ’से बता’या कि शा’दी त’य हो चु’की है औ’र बैंड’बाजा भी बु’क है। 

परिवा’र में क’लह न हो, इसलि’ए व’ह माम’ले को दबा’ये र’हा। नतीजत’न बी’ते रो’ज शा’दी की र’स्में पू’री हो’ने के सा’थ ही बारा’त भी जा’ने ल’गी। इ’सकी भ’नक दि’ल्ली वा’ली प’त्नी को ल’गी तो वह का’र से य’हां प’हुंची तो बा’रात उझा’नी के पुरा’ने टा’कीज के पा’स थी औ’र बारा’ती ना’चने-गा’ने में मश’गूल थे। 

पह’ली प’त्नी ने ब’ग्गी प’र चढ़’कर पां’च सौ रुप’ए का नो’ट दू’ल्हे के सि’र प’र लगा’कर फो’टो खिंच’वाये तो लो’ग दं’ग र’ह ग’ए कि आखिर’कार व’ह कौ’न है। 

बता’ते हैं कि इस’के बा’द उस’ने दू’ल्हे को हड़’काया तो वो का’र में बै’ठकर उ’सके सा’थ च’ला ग’या। बा’रात भी रा’स्ते से ही वा’पस लौ’ट ग’ई। हालां’कि कि’सी प’क्ष ने इ’स मा’मले में पुलि’स को तह’रीर न’हीं दी है।