Categories
News

दू’ल्हा लू’टा स’रेआम: शा’दी में नाच’ते र’ह ग’ए बारा’ती, दि’खा चो’रों का न’या ट्रें’ड, ऐ’से लू’टा दू’ल्हे को जा’नकर हो जा’एंगे..दे’खें तस्वी’रें….

हिंदी खबर

नई दि’ल्ली: आज’कल चो’र चो’री क’रने के लि’ए कि’सी घ’र या दु’कान का अप’ना निशा’ना न’हीं ब’ना र’हे है, ब’ल्कि ए’क न’ए ट्रें’ड के सा’थ चो’री जै’सी घट’नाओं को अंजा’म दे र’हे हैं। ब’ता दें कि चो’रों ने चो’री के ए’क न’या तरी’का अप’नाया है। इ’न दि’नों चो’रों के नि’शाने प’र शा’दी क’रने वा’ले बा’राती औ’र घरा’ती है। जी हां, ए’क तर’फ ज’हां लो’ग शादि’यों के ज’श्न में डू’बे हो’ते हैं, तो व’हीं चो’र इ’स मौ’के का फाय’दा उ’ठाते हु’ए चो’री जै’सी घट’नाओं को अंजा’म दे दे’ता है। ऐ’सी ही खब’र दि’ल्ली के जनकपु’री इ’लाके से साम’ने आ’ई है, ज’हां बैं’ड-बा’जे के सा’थ अप’नी दुल्ह’न को ले’ने जा र’हे दु’ल्हे को चो’रों ने अ’पना नि’शाना बना’या। ना’च-गा’ने में मश’गूल बारा’तियों के बी’च से चो’र ने दू’ल्हे से सो’ने की चै’न औ’र नो’टों की मा’ला झ’पट क’र फरा’र हो ग’ए।

चो’रों ने दु’ल्हे को ब’नाया अ’पना नि’शाना

आ’पको ब’ता दें कि दि’ल्ली में शा’दी के मा’हौल में चो’री जै’सी घट’नाओं को अं’जाम दे’ने का य’ह दूस’रा माम’ला है, जो बी’ते 48 घं’टे के अं’दर घ’टित हु’ई है। दि’ल्ली के जन’कपुरी इ’लाके में बैं’ड बा’जे के सा’थ वि’वाह क’रने जा र’हे दू’ल्हे से चो’रों ने सो’ने की चे’न औ’र 3 नो’टों की मा’ल झ’पट क’र मौ’के से फ’रार हो ग’ए, जिस’के बा’द पी’ड़ित प’क्ष ने तु’रंत इस’की शिका’यत पु’लिस था’ने में द’र्ज क’राई, जि’सके बा’द पुलि’स माम’ले की जां’च में जु’ट ग’ई है।

माम’ले की जां’च में जु’टी पुलि’स

पु’लिस अधि’कारी ने इ’स माम’ले की जान’कारी दे’ते हु’ए बता’या कि ज’नकपुरी में ए’क बैं’क्वेट हॉ’ल में शा’दी समा’रोह था। ज’ब बारा’त निक’ली तो रा’त के क’रीब 10:15 ब’जे मे’ट्रो पिल’र सं’ख्या 556 के पा’स पहुं’ची। इ’सी दौ’रान झपट’मारों ने दू’ल्हे को अप’ना नि’शाना ब’ना लि’या। झपट’मार सो’ने की चे’न औ’र नो’टों की मा’ला छीन’कर व’हां से फरा’र हो ग’ए। ना’चने गा’ने में व्य’स्त बारा’तियों को जै’सी ही इस’की जान’कारी हु’ई वो आस’पास झपट’मार को ढूंढ’ने ल’गे, लेकि’न इस’का को’ई फा’यदा न’हीं हु’आ। व’हीं दि’ल्ली पुलि’स ने क’हा कि वो आ’रोपियों की तला’श क’र र’ही है औ’र घट’नास्थल प’र ल’गे कै’मरों की फुटे’ज को खंगा’ला जा र’हा है, ता’कि आरो’पियों का को’ई सु’राग मि’ल स’के।

नई दि’ल्ली: आज’कल चो’र चो’री क’रने के लि’ए कि’सी घ’र या दु’कान का अप’ना निशा’ना न’हीं ब’ना र’हे है, ब’ल्कि ए’क न’ए ट्रें’ड के सा’थ चो’री जै’सी घट’नाओं को अंजा’म दे र’हे हैं। ब’ता दें कि चो’रों ने चो’री के ए’क न’या तरी’का अप’नाया है। इ’न दि’नों चो’रों के नि’शाने प’र शा’दी क’रने वा’ले बा’राती औ’र घरा’ती है। जी हां, ए’क तर’फ ज’हां लो’ग शादि’यों के ज’श्न में डू’बे हो’ते हैं, तो व’हीं चो’र इ’स मौ’के का फाय’दा उ’ठाते हु’ए चो’री जै’सी घट’नाओं को अंजा’म दे दे’ता है। ऐ’सी ही खब’र दि’ल्ली के जनकपु’री इ’लाके से साम’ने आ’ई है, ज’हां बैं’ड-बा’जे के सा’थ अप’नी दुल्ह’न को ले’ने जा र’हे दु’ल्हे को चो’रों ने अ’पना नि’शाना बना’या। ना’च-गा’ने में मश’गूल बारा’तियों के बी’च से चो’र ने दू’ल्हे से सो’ने की चै’न औ’र नो’टों की मा’ला झ’पट क’र फरा’र हो ग’ए।