Categories
News

सु’बह उठ’कर अग’र क’र लि’ए ये का’म, तो आ’पको अ’मीर ब’नने से को’ई न’हीं रो’क सक’ता, ज’रूर क’रें ये…

धार्मिक खबर

सं’सार में सि’र्फ मू’लभूत आ’वश्यकताएं ही न’हीं, ब’ल्कि सम’स्त भौ’तिक अभि’लाषाओं की पू’र्ति का एक’मात्र सा’धन है ध’न। ध’न के द्वा’रा सं’सार की को’ई भी भौ’तिक इ’च्छा की पू’र्ति की जा स’कती है। य’ही का’रण है कि ध’न प्रा’प्ति की काम’ना ह’र को’ई क’रता है। ले’किन क’ई बा’र अ’थक प्र’यत्नों के बा’द भी ध’न प्रा’प्ति न’हीं हो पा’ती।

अ’गर आ’प भी जी’वन में अ’थाह ध’न पा’कर अमी’र ब’नना चा’हते हैं तो आ’पके लि’ए ह’म ले’कर आ’ए हैं अ’दभुत उपा’य। बेशु’मार दौ’ल‍त के मालि’क बन’ना चाह’ते हैं तो ये 10 न’मस्कार मं’त्र क’र सक’ते हैं आप’की य’ह इ’च्छा पू’री। इ’न मं’त्रों का अग’र निय’म से जा’प क’रेंगे, तो ध’न के रा’स्ते खुल’ने ल’गेंगे। जा’निए कौ’न से हैं वे 10 मं’त्र –

अमी’र बन’ने के द’स न’मस्कार मं’त्र

1. ॐ धना’य न’म:

2. ध’नाय न’मो न’म:

3. ल’क्ष्मी न’म:

5. ल’क्ष्मी नारा’यण न’म:

4. ल’क्ष्मी न’मो न’म:

6. नारा’यण न’मो न’म:

7. नारा’यण न’म:

8. प्रा’प्ताय न’म:

9. प्रा’प्ताय न’मो
न’म:

10. ल’क्ष्मी नारा’यण न’मो न’म:

सं’सार में सि’र्फ मू’लभूत आ’वश्यकताएं ही न’हीं, ब’ल्कि सम’स्त भौ’तिक अभि’लाषाओं की पू’र्ति का एक’मात्र सा’धन है ध’न। ध’न के द्वा’रा सं’सार की को’ई भी भौ’तिक इ’च्छा की पू’र्ति की जा स’कती है। य’ही का’रण है कि ध’न प्रा’प्ति की काम’ना ह’र को’ई क’रता है। ले’किन क’ई बा’र अ’थक प्र’यत्नों के बा’द भी ध’न प्रा’प्ति न’हीं हो पा’ती।

अ’गर आ’प भी जी’वन में अ’थाह ध’न पा’कर अमी’र ब’नना चा’हते हैं तो आ’पके लि’ए ह’म ले’कर आ’ए हैं अ’दभुत उपा’य। बेशु’मार दौ’ल‍त के मालि’क बन’ना चाह’ते हैं तो ये 10 न’मस्कार मं’त्र क’र सक’ते हैं आप’की य’ह इ’च्छा पू’री। इ’न मं’त्रों का अग’र निय’म से जा’प क’रेंगे, तो ध’न के रा’स्ते खुल’ने ल’गेंगे। जा’निए कौ’न से हैं वे 10 मं’त्र –

सं’सार में सि’र्फ मू’लभूत आ’वश्यकताएं ही न’हीं, ब’ल्कि सम’स्त भौ’तिक अभि’लाषाओं की पू’र्ति का एक’मात्र सा’धन है ध’न। ध’न के द्वा’रा सं’सार की को’ई भी भौ’तिक इ’च्छा की पू’र्ति की जा स’कती है। य’ही का’रण है कि ध’न प्रा’प्ति की काम’ना ह’र को’ई क’रता है। ले’किन क’ई बा’र अ’थक प्र’यत्नों के बा’द भी ध’न प्रा’प्ति न’हीं हो पा’ती।