Categories
News

इ’न 5 बा’तों से जा’निए कि क’हीं आ’पका पा’र्टनर तो न’हीं क’र र’हा आप’के सा’थ टाइम’पास, जा’नें पू’री…

हिंदी खबर

आज’कल स’च्चे प्या’र को सम’झना बहु’त मुश्कि’ल का’म है क्यों’कि य’ह तो तय बा’त है कि दु’निया में रि’श्ते में ब’हुत सा’रे लो’ग र’हते हैं ले’किन उन’में से स’ब स’च्चे हों, रि’श्ते के प्र’ति सम’र्पित हों, ये तो ज’रूरी न’हीं है। क’ई सा’रे लो’ग सि’र्फ दि’खावे के लि’ए औ’र म’न बह’लाने के लि’ए भी रि’श्ता र’खते हैं, जो कि स’मय आ’ने प’र अ’पनी सहूलि’यत के अ’नुसार पा’र्टनर बद’ल ले’ते हैं, ऐ’से में सा’मने वा’ले व्य’क्ति के दि’ल प’र चो’ट पहुं’चती है ले’किन जो स’च्चा न’हीं है, जि’सके प्रे’म स’च्चा न’हीं है, उ’से इ’न बा’तों से को’ई फ’र्क न’हीं प’ड़ता है। आ’इए जा’नते हैं कि वो कौन’सी बा’तें हैं जि’नसे आ’प प’ता क’र स’कते हैं कि आ’पका पा’र्टनर आ’पसे स’च्चा प्या’र कर’ता है या ब’स टाइम’पास।

झू’ठ बो’लना
य’दि आ’प ज’ब भी अ’पने पा’र्टनर से अ’चाकर पू’छते हैं कि वो क’हां है औ’र ज’वाब लड़ख’ड़ाकर या स’मय लेक’र आ’ता है तो ये चिं’ता का विष’य है क्यों’कि य’दि आ’पके पार्ट’नर को आ’पसे स’च्चा प्या’र है तो वो क’भी भी आ’पसे य’ह छि’पाने की को’शिश न’हीं क’रेगा कि व’ह क’हां है। व’ह भय’मुक्त हो’कर स’च ब’ता दे’गा। 

मोबा’इल में ल’गे र’हना
वे ज’ब भी आ’पसे मि’लने आ’ते हैं तो पू’रा ध्या’न आ’प प’र या बा’तों प’र हो’ने की बजा’य बी’च-बी’च में मोबा’इल प’र ही हो’ता है त’ब भी सम’झिए कि कु’छ औ’र म’हत्वपूर्ण है, जो उन’का ध्या’न उ’स औ’र है। ऐ’सी स्थि’ति में आ’प स्प’ष्ट पू’छ भी सक’ती हैं क्यों’कि ये आ’पका अधि’कार है। इ’से श’क क’रना बिल्कु’ल न’हीं कह’ते हैं। 

बहा’ने बना’ना
ज’ब भी आ’प मिल’ने की बा’त क’रते हो या खु’द से जु’ड़ा को’ई का’म बता’ते हो तो वो अ’पनी व्यस्तता’ओं को ले’कर ब’हाने बना’ते र’हते हों, ज’बकि सा’मान्य में वे फ्री ही र’हते हों, ऐ’सी स्थि’ति में भी य’ह सम’झना ज’रूरी है कि वे आ’पके लि’ए जि’तना मह’त्वपूर्ण हैं, उत’ना आ’प उ’नके लि’ए म’हत्वपूर्ण न’हीं हैं।

आ’पके करी’बियों से को’ई मत’लब न हो’ना
य’दि आप’का पा’र्टनर आप’से जु’ड़े लो’गों अ’र्थात परि’वार, दो’स्तों में रू’चि न’हीं ले’ता, उ’नसे जु’ड़ी बा’तों को न’हीं सुन’ता मत’लब इस’का अ’र्थ है कि व’ह इ’स रि’श्ते को दू’र त’क न’हीं देख’ता, वो सि’र्फ आ’पसे मत’लब र’खना चाह’ता है, वो भी सि’र्फ तब’तक जबत’क वो आ’पके सा’थ है। स’च्चे प्रे’मी आप’के करी’बियों को भी तव’ज्जो दे’ते हैं। 

बि’ना बा’त के चि’ढ़चिढ़ क’रना
य’दि आ’पका पा’र्टनर सा’मान्य बा’तों प’र भी बहु’त अधि’क खी’झता है। आ’पकी ह’र अ’च्छा, बु’री बा’त से उ’से स’मस्या है। अप’ने दो’स्तों के हम’सफर से आ’पकी तुल’ना क’रता है तो स’मझ जा’इए कि ब’हुत ज’ल्द इ’स रि’श्ते का अं’त हो’ने वा’ला है क्यों’कि उ’सने आप’को म’न से क’भी स्वी’कारा ही न’हीं है।