Categories
News

इ’स दि’ग्गज डां’सर की हु’ई मौ’त, क’ला जग’त में दौ’ड़ी शो’क की ल’हर….

हिंदी खबर

मुंब’ई : म’शहूर नर्त’क अस्ता’द दे’बू का गुरुवा’र को मुं’बई में नि’धन हो ग’या। व’ह 73 सा’ल के थे। उन’के परि’वार ने य’ह जान’कारी दी है। क’थक औ’र कथ’कली को ए’क सा’थ जो’ड़ डां’स की न’ई फॉ’र्म दे’ने वा’ले मश’हूर नर्त’क अ’स्ताद दे’बू  कु’छ व’क्त से बी’मार थे जि’सके बा’द 10 दि’संबर की सु’बह उन’का नि’धन हो ग’या।

परिवा’र ने क’हा है कि अ’पनी क’ई शान’दार प’रफॉर्मेंस के द’म प’र अस्ता’द दे’बू ने लो’गों के दि’लों में ए’क खा’स जग’ह बना’ई, आ’ज वो अ’पने पी’छे ब’ड़ी विरा’सत छोड़’कर ग’ए हैं। अस्ता’द दे’बू की गिन’ती उ’न न’र्तकों में हो’ती है, जिन्हों’ने आधु’निक औ’र पु’राने जमा’ने के भार’तीय नृ’त्य को ए’क कि’या औ’र यु’वा पी’ढ़ी के सा’मने पे’श कि’या।

क’रीब पां’च दश’क त’क रा’ज

व’ह हिन्दुस्ता’नी डां’स को ही आ’गे ब’ढ़ाते थे, लेकि’न ए’क बा’र उन्हों’ने क’हा था कि अधि’कतर भार’तीय ही उन’के इ’स नृ’त्य को प’श्चिमी स’भ्यता से प्रभा’वित मा’नते हैं। गुज’रात के न’वसारी में 13 जु’लाई, 1947 को ज’न्मे अस्ता’द दे’बू ने अ’पने गु’रु प्रह्ला’द दा’स से क’थक की शि’क्षा ली थी। उस’के अला’वा उन्हों’ने गु’रु ई.के. पनि’क्कर से कथ’कली की शि’क्षा ली। डां’स की दु’निया में क”रीब पां’च दश’क त’क रा’ज क’रने वा’ले अस्ता’द दे’बू ने दुनि’या के 70 दे’शों में पर’फॉर्म कि’या था।

लगा’तार का’म कि’या

सि’र्फ डां’स ही न’हीं ब’ल्कि समा’जसेवा के क्षे’त्र में भी उन्हों’ने लगा’तार का’म कि’या। भार”त औ’र वि’देश में अस्ता’द दे’बू ने सु’न ना पा’ने वा’ले ब’च्चों की से’वा की।  सा’ल 2002 में अस्ता’द दे’बू डां’स फा’उंडेशन के ज’रिए उन्हों’ने दिव्यां’गों को मद’द पहुंचा’नी शु’रू की।

अस्ता’द दे’बू ने बॉ’लीवुड डा’यरेक्टर म’णिरत्नम, विशा’ल भा’रद्वाज जै’से दि’ग्गजों के सा’थ का’म कि’या। अ’स्ताद दे’बू को 1995 में सं’गीत नाट’क अका’दमी दि’या ग’या, इस’के अला’वा 2007 में उ’न्हें प’द्म श्री से नवा’जा ग’या।

मुंब’ई : म’शहूर नर्त’क अस्ता’द दे’बू का गुरुवा’र को मुं’बई में नि’धन हो ग’या। व’ह 73 सा’ल के थे। उन’के परि’वार ने य’ह जान’कारी दी है। क’थक औ’र कथ’कली को ए’क सा’थ जो’ड़ डां’स की न’ई फॉ’र्म दे’ने वा’ले मश’हूर नर्त’क अ’स्ताद दे’बू  कु’छ व’क्त से बी’मार थे जि’सके बा’द 10 दि’संबर की सु’बह उन’का नि’धन हो ग’या।