Categories
News

टॉ’यलेट में र’खी म’शीन, जमी’न में गा’ड़ा टैं’क, ऐ’से बना’या अ’वैध डी’जल पं’प, जब डीज’ल की ज’गह नि’कला ये.. लो’गों के उ’ड़े.. दे’खें त’स्वीरें…’

हिंदी खबर

म’ध्‍य प्रदे’श के झा’बुआ जि’ले में ए’क ढा’बा संचा’लक ने पू’रा डीज’ल पं’प ही अवै’ध ब’ना दि’या. इस’के लि’ए ज’मीन में 12 ह’जार लीट’र क्ष’मता की टैं’क गा’ड़ दि’या ग’या औ’र डी’जल दे’ने के लि’ए डिस्‍पेंसिं’ग मशी’न टॉय’लेट में ल’गा दी ग’ई. (झा’बुआ सेे चंद्रभा’न स‍िंं’ह भदौ’र‍िया की र‍िपो’र्ट)

प्रा’प्त जान’कारी अनु’सार, गुज’रात ए’वं म’ध्य प्र’देश के बॉ’र्डर प’र ग्रा’म बाल’वासा में अ’वैध रू’प से डी’जल का व्या’पार क’र र’हे ढा’बा संचा’लक द्वा’रा गुजरा’त से डीज’ल ला’कर म’ध्य प्र’देश में बे’चा जा र’हा था. गुज’रात औ’र म’ध्य प्रदे’श के भा’व में 10 रुप’ये का अं’तर है व ज्या’दा मुना’फा क’माने के उद्दे’श्य से य’ह धं’धा कि’या जा र’हा था. इ’सके लि’ए डिस्पें’सिंग मशी’न, टि’ल्लू पं’प औ’र 12,000 ली’टर की क्षम’ता वा’ला टैंक’र उप’योग में ला’या जा र’हा था.

हा’लांकि ढा’बा संचा’लकों का क’हना है कि वे अ’पने खु’द के टैं’करों के लि’ए डीज’ल को ज’मा कर’ते थे. व’हीं, डिस्पेंसिं’ग मशी’न उपक’रणों का उप’लब्ध हो’ना, डी’जल के खरी’दने औ’र बेच’ने की ओ’र संके’त क’र र’हा है.

मुख’बिर की सूच’ना प’र ग्रा’म बालवा’सा के पा’स प्रका’श ढा’बा के संचा’लक प्र’काश डा’मोर औ’र ध’र्मेश पि’ता अशो’क हडि’या के य’हां द’बिश दी ग’ई तो व’हां प’ता च’ला कि अ’वैध रू’प से डीज’ल का सं’ग्रह औ’र वि’क्रय कि’या जा र’हा था.

था’ना काकन’वानी के अं’तर्गत चौ’की ह’री नग’र पु’लिस द्वा’रा का’र्रवाई कर’ते हु’ए मौ’के से 12,000 ली’टर क्षम’ता का टैं’कर, डि’स्पेंसिंग म’शीन व टि’ल्लू पं’प के अ’लावा पा’इप आ’दि ए’वं 100 ली’टर डी’जल ज’ब्‍त कि’या ग’या. आरो’पियों के खि’लाफ धा’रा 3/7 आ’वश्यक व’स्तु अधि’नियम 1955 के त’हत प्र’करण पंजी’बद्ध कि’या. मौ’के से आरो’पी ध’र्मेश को गि’रफ्तार कि’या ग’या. आ’रोपी ढा’बा सं’चालक प्रका’श डा’मोर फरा’र है. ढा’बा संचा’लक प्रका’श य’ह अ’वैध व्या’पार क’ब से क’र र’हा है, पुलि’स इ’सकी जां’च में जु’टी है.