Categories
News

घ’र में झा’ड़ू का इस्तेमा’ल क’रते व’क्त न क’रें ये 6 गल’तियां, वर’ना घ’र की बर’कत प’र पड़े’गा बु’रा अ’सर…

धार्मिक खबर

घ’र या ऑ’फिस में इस्तेमा’ल हो’ने वा’ली झा’ड़ू (Broom) का ब’ड़ा मह’त्व हो’ता है. इ’से ल’क्ष्मी का प्रती’क भी मा’ना जा’ता है. ले’किन क्या क’भी आप’ने गौ’र कि’या है कि झा’ड़ू की व’जह से घ’र में क’ई बा’र अ’शुभ ची’जें घ’टने (Vastu dosh) लग’ती हैं. वा’स्तु के मुता’बिक, य’दि झा’ड़ू लगा’ने में या रख’ने सा’वधानी न बर’ती जा’ए तो घ’र की पू’री बर’कत च’ली जा’ती है.

अ’क्सर लो’ग झा’ड़ू टू’ट जा’ने के बा’द भी उ’से इस्तेमा’ल क’रते हैं. वा’स्तु के नज’रिए से ऐ’सा कर’ना बहु’त गल’त हो’ता है. झा’ड़ू के ए’क बा’र टू’ट जा’ने प’र उस’की ती’लियों को दो’बारा जोड़’कर इस्ते’माल कर’ना अशु’भ हो’ता है.

जि’स अल’मारी या ति’जोरी में आ’प पै’सा, जेवरा’त या की’मती सा’मान र’खते हैं, उन’के नी’चे या ब’गल में क’भी झा’ड़ू न र’खें. ऐ’सा क’रने से आप’के कारो’बार-संप’त्ति प’र बु’रा अ’सर पड़’ने लग’ता है.

घ’र या ऑ’फिस में झा’ड़ू को क’भी भी ख’ड़ा कर’के न र’खें. इ’स अ’वस्था में झा’ड़ू ब’ड़ी अ’पशगुन मा’नी जा’ती है. झा’ड़ू को हमे’शा जमी’न प’र ले’टाकर ही र’खें. इस’से आप’की जे’ब या बैं’क बै’लेंस क’भी खा’ली न’हीं रहे’गा.

सू’र्यास्त के सम’य या’नी शा’म की प’हर में झा’ड़ू लगा’ना वा’स्तु की न’जर से अ’शुभ हो’ता है. ऐ’सा कर’ने से मां ल’क्ष्मी रू’ठ जा’ती हैं. इस’लिए शा’म या रा’त के स’मय घ’र या ऑ’फिस में झा’ड़ू न ल’गाएं. य’दि मजबू’रन ऐ’सा कर’ना प’ड़ र’हा है तो क’म से क’म क’चरा बाह’र न नि’कालें. उ’से आ’प अग’ली सु’बह बा’हर नि’काल सक’ते हैं.

झा’ड़ू को प’श्चिम दि’शा के कि’सी क’मरे में र’खना बेह’द शु’भ मा’ना जा’ता है. इ’स दि’शा में झा’ड़ू रख’ना स’बसे अ’च्छा मा’ना जा’ता है. इ’स दि’शा में झा’ड़ू के रह’ने से घ’र में कि’सी भी तर’ह की नका’रात्मक ऊ’र्जा का वा’स न’हीं हो’ता है.

झा’ड़ू को ल’क्ष्मी के समा’न मा’ना जा’ता है. इसलि’ए ह’मेशा ध्या’न र’खें कि कि’सी भी इंसा’न का पै’र झा’ड़ू प’र न ल’गे. इ’ससे ल’क्ष्मी का अप’मान हो’ता है. इस’का अ’नादर हो’ने से घ’र में क’ई तर’ह की आ’र्थिक परेशा’नियां आ स’कती हैं.

य’दि आ’प घ’र या ऑ’फिस में इस्ते’माल हो’ने वा’ली झा’ड़ू को बद’लना चा’ह र’हे हैं तो इ’सके लि’ए शनि’वार का दि’न बेह’तर हो’ता है. शनि’वार को न’ई झा’ड़ू का उप’योग क’रना शु’भ मा”ना जा’ता है.