Categories
News

बुरी खबरः 2020 से भी ज्यादा खराब होगा 2021, भ’यानक ढंग से मचेगी…..

खबरें

साल 2020 का साल काफी ख’रा’ब है. को’रोना वा’यर’स म’हामा’री के का’रण वि’श्व में हा’ह’का’र म’चा हुआ है. ऐसे में हर व्यक्ति चाहता है कि जल्दी से यह साल बीत जाए ताकि नया साल आए तो लोगों कुछ सूकून की सांस ले सके. लेकिन अब संयुक्‍त राष्‍ट्र के विश्व खाद्य कार्यक्रम के प्रमुख डेविड बेस्‍ली ने चेताया है कि साल 2020 से भी ज्यादा ख’राब साल 2021 से भी ख’राब होने वाला है. उनका अ’नु’मान है कि अगले साल लाखों लोग भु’खम’री की तरफ जा सकते हैं क्योंकि दु’निया भर के देशों से मिलने वाली अरबों डॉ’लर की आ’र्थिक मदद का अगले साल मिलना मुश्किल हैं क्योंकि इस समय दु’नि’या को’रो’ना वा’यर’स के कारण उपजी आ’र्थिक चु’नौ’तियों का सा’मना कर रही है.

ए’सो’सि’ए’टे’ड प्रे’स को दिए एक इं’टर’व्‍यू में कहा कि नॉ’र्वे’जि’य’न नो’बे’ल स’मिति उस काम को देख रही थी, जो एजेंसी हर दिन सं’घ’र्षों, आ’प’दा’ओं और श’रणा’र्थी शि’विरों में करती है. अ’क्सर क’र्म’चारि’यों को लाखों भू’खे लोगों को खाना खिलाने के लिए अपनी जान जो’खिम में डालनी पड़ती है. उन्होंने आगे कहा कि अभी हमारा मु’श्किल व’क्त अभी आना बाकी है क्योंकि आगे आने वाले दिनों में क’ठि’ना’ई’यां ब’ढ़ने वाली हैं.

बे’स्ले ने अप्रैल में सं’युक्त रा’ष्ट्र सु’रक्षा प’रिषद को दी चे’ताव’नी को याद करते हुए कहा कि चूंकि दुनि’या को’रो’ना’वा’य’रस म’हा’मा’री से जू’झ रही थी, इसी दौ’रान दु’निया भू’ख’म’री की क’गा’र पर भी था, और जिस पर त’त्काल एक्शन नहीं होने पर कुछ महीनों के भी’तर ही कई बड़े अनुपात अ’का’लों को जन्म दे सकती थी.

डे’वि’ड ने कहा कि साल 2020 में वो हा’ला’त को ब’दल’ने में स’फल तो रहे, क्योंकि कई देशों ने पैसे, प्रो’त्सा’हन पै’केज, ऋ’ण की अ’स्वीकृ’ति का ऐ’लान किया. वहीं उन्होंने आगे कहा कि को’रो’ना एक बार फिर अपने पैस पसार रहा है, गरीब और मध्यम आय वाले देशों की अर्थव्यवस्था लगातार गर्त में जा रही है और कोरो’ना की एक और वेव आने वाली है जिसके कारण लॉ’क डा’उ’न और श’टडॉ’उ’न होने की उम्मीद है. ऐसे में उन्होंने बताया कि जितना पैसा साल 2020 में उपलब्ध था उतना अगले साल उपलब्ध नहीं होने वाला है. ऐसे में स्थिति बदल सकती है.

बता दें, व’र्ल्‍ड फू’ड प्रो’ग्राम को भू’खम’री और अ’का’ल जैसी स्थि’ति से नि’पट’ने के लिए हर साल 5 अरब डॉलर की जरूरत होती है. इसके साथ ही पूरे विश्‍व में 10 अरब डॉलर की जरूरत और पड़ती है, जिससे कु’पो’षि’त बच्चों और स्कूल लंच के लिए एजेंसी के वै’श्विक का’र्यक्रमों को ठीक तरीके से चलाया जाता है. अप्रैल में बे’स्‍ली ने बताया था कि दुनिया भर के 13.5 करोड़ लोगों ने के दौ’रान भु’ख’म’री का सामना किया. वर्ल्‍ड फूड प्रो’ग्राम के एक विश्‍लेषण से यह पता चलता है कि 2020 के अंत तक 30 करोड़ और लोग भु’ख’म’री के शि’कार हो सकते हैं.