Categories
News

दिवा’ली से पह’ले घ’र से ह’टा दें ये 8 ची’जें, मा’नी जा’ती है अ’शुभ, न’हीं आयें’गी मां ल’क्ष्मी, जा’नें….

धार्मिक खबर

14 नवं’बर को शनि’वार के दि’न दिवा’ली का त्यौहा’र मना’या जा’एगा. मा’ना जा’ता है कि दिवा’ली के दि’न मा’ता ल’क्ष्मी घ’रों में प्रवे’श कर’ती हैं. इ’स दि’न घ’रों में दी’ए जला’ए जा’ते हैं ता’कि मां ल’क्ष्मी की कृ’पा ब’नी र’हे. हालां’कि इ’स दि’न घ’र में क’ई ची’जों का हो’ना अ’शुभ मा’ना जा’ता है औ’र क’हा जा’ता है कि जिन’के घ’र में ये ची’जें हो’ती हैं उ’नके घ’र में मां ल’क्ष्मी की कृ’पा न’हीं हो’ती है. आ’इए जा’नते हैं क्या हैं ये ची’जें जि’न्हें दि’वाली से पह’ले अप’ने घ’र से ह’टा दे’ना चा’हिए.

टू’टा हु’आ कां’च- अग’र आ’पके घ’र के कि’सी को’ने में टू’टा हु’आ कां’च र’खा है या आ’पकी खिड़’की की कां’च टू’टी हु’ई है तो उ’से तु’रंत घ’र से बा’हर नि’काल दें औ’र इस’की जग’ह न’ई कां’च लगवा’एं. घ’र में टू’टा हु’आ शी’शा रख’ना अ’शुभ मा’ना जा’ता है. टू’टी कां’च घ’र मे नका’रात्मक ऊ’र्जा बढ़ा’ती है.

दिवा’ली से प’हले खरा’ब बिज’ली स’ही करा’एं- अग’र आ’पके घ’र की क’हीं की लाइ’ट खरा’ब है तो दिवा’ली से पह’ले इ’से ठी’क क’रा लें. दिवा’ली के सम’य अं’धेरा अशु’भता का प्र’तीक मा’ना जा’ता है औ’र इ’सका से’हत प’र बु’रा अस’र पड़’ता है.

टू’टी मू’र्ति ह’टाएं- घ’र में क’भी भी टू’टी मू’र्ति ना र’खें. ऐ’सी मूर्ति’यां घ’र में दुर्भा’ग्य ब’ढ़ाने का का’म क’रती हैं. दिवा’ली से प’हले अ’पने घ’र से टू’टी मू’र्तियों को बा’हर क’र दें.

टू’टा फ’र्नीचर- वा’स्तु शा’स्त्र के अनु’सार, घ’र में टू’टा हु’आ फ’र्नीचर रख’ना अशु’भ मा’ना जा’ता है. घ’र का फ’र्नीचर ह’मेशा स’ही स्थि’ति में हो’ना चाहि’ए. वा’स्तु के अनुसा’र ख’राब फ’र्नीचर का घ’र प’र बु’रा प्र’भाव पड़’ता है.

रु’की हु’ई घ’ड़ी- वा’स्तु के अनु’सार घ’ड़ी को प्र’गति का प्रती’क मा’ना जा’ता है. अ’गर आ’पके घ’र में को’ई टू’टी या रु’की हु’ई घ’ड़ी है तो उ’से दि’वाली से पह’ले घ’र से ह’टा दें.

छ’त की स’फाई क’रें- दिवा’ली से पह’ले लो’ग घ’रों की स’फाई तो कर’ते हैं प’र अक्स’र घ’र की छ’त को नज’रअंदा’ज क’र दे’ते हैं. दिवा’ली से पह’ले घ’र की छ’त को भी सा’फ क’रें औ’र य’हां प’र प’ड़े क’चरे औ’र फाल’तू सा’मान को ह’टा दें.

फ’टे जू’ते-च’प्पल- दि’वाली से पह’ले घ’र की स’फाई कर’ते स’मय अ’पने पु’राने औ’र फ’टे जू’ते-चप्प’लों को बाह’र नि’कालना न भू’लें. फ’टे जू’ते औ’र चप्प’ल घ’र में नका’रात्मकता औ’र दुर्भा’ग्य ला’ते हैं.

टू’टे हु’ए ब’र्तन- घ’र में क’भी भी टू’टे हु’ए बर्त’न ना र’खें. इ’स दिवा’ली अप’ने घ’र से ऐ’से बर्त’नों को बा’हर नि’काल दें जो टू’टे हु’ए हैं. टू’टे बर्त’नों को घ’र में रख’ना अ’शुभ मा’ना जा’ता है.