Categories
Other

महाराष्ट्र बीजेपी में दौड़ी परेशानी की लहर, दिग्गज नेता………, सदमें में अमित शाह!!

खबरें

म’हाराष्ट्र की रा’जनी’ति में भा’रती’य जन’ता पा’र्टी को एक बड़ा झ’टका एकनाथ खडसे ने दिया है। उन्होंने भार’तीय ज’नता पा’र्टी छो’ड़कर एन’सी’पी में शा’मिल होने का फै’सला किया है। एकनाथ खडसे म’हाराष्ट्र बी’जेपी की राज’नीति के जाने-माने रा’जने’ता हैं साथ ही वह पूर्व सीएम देवें’द्र फ’डणवी’स से भी ना’राज बताए जा रहे थे। जिसके चलते उन्होंने भा’रती’य ज’नता पार्टी को अ’लवि’दा कह दिया।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, भारतीय जनता पार्टी के पूर्व नेता एकनाथ खडसे अब शुक्रवार को एनसीपी में शामिल होंगे। जिसको लेकर उन्होंने वजह बताई कि उन्हें भारतीय जनता पार्टी में न्याय नहीं मिला। फिलहाल, एकनाथ खडसे के इस्तीफे की भारतीय जनता पार्टी की तरफ से पुष्टि कर दी गई और साथ ही पार्टी ने उन्हें उनके भविष्य के लिए शुभकामनाएं भी दी है।

मिली जानकारी के मु’ताबि’क उन्होंने साल 2015 में देवें’द्र फ’डण’वीस के ने’तृत्व में मंत्री पद को छोड़ने का फै’सला कर इ’स्ती’फा दे दिया था। वहीं दूसरी तरफ म’हारा’ष्ट्र राज्य स’रका’र में मं’त्री जयंत पाटिल ने कहा कि शुक्र’वार को ए’कनाथ खड’से एन’सी’पी में शा’मिल होंगे और इस’के बाद वह अप’नी रण’नी’ति के बारे में जा’नकारी भी देंगे।

पार्टी छोड़ने के बाद एकनाथ खडसे ने कहा कि मैं एन’सी’टी को ज्वाइन इसलिए कर रहा हूं, क्योंकि जो मेरे खि’लाफ भ्रष्टाचा’र के आ’रोप लगे थे। उसमें कुछ भी सा’बित नहीं हुआ। मुझे एक नेता के द्वारा बहुत प’रेशा’न किया गया। ले’किन मैंने पार्टी से बार-बार न्या’य मांगा। लेकिन मुझे न्या’य नहीं मिला। जिसके चलते मैंने फै’सला किया और मैंने भाज’पा का दाम’न छोड़ ए’नसी’पी में जाने का फै’सला किया।

माना जा रहा है कि बीते कई दिनों से खड’से और ए’नसी’पी के ने’ताओं के बीच बातचीत का दौ’र जा’री था। ऐसे में वो उद्धव ठाकरे स’र’कार में किसी मंत्री पद को भी सं’भाल सकते हैं। एकनाथ ख’ड’से की न’ज़र कृ’षि मंत्रालय पर है, जो अभी शिव’से’ना के पास ही है।

जा’नकारी के लिए बता दूं कि साल 2015 में इस ना’थ खडसे ने भ्र’ष्टाचार के आ’रोप लगने के बाद दे’वेंद्र फ’डणवीस की सरकार से इ’स्तीफा दे दिया था और उसी के बाद से रा’जनीति’क कैरियर नीचे जाने लगा था। एकनाथ खडसे के स’मर्थकों करना है कि दे’वेंद्र फ’डणवी’स की वज’ह से ही उन्हें पा’र्टी से कि’नारा करना पड़ा था।