Categories
राशिफल

राशिफल 18 अक्टूबर: इन 4 रा’शियों में खुशी के यो’ग, जीवन में होगा ब’दलाव, जानें सभी राशियों के हा’ल……

धार्मिक खबर

ग्रहों की स्थि’ति-रा’हु वृष’भ राशि में हैं। शु’क्र सिंह रा’शि में हैं। सू’र्य, बुध और चंद्र’मा तुला रा’शि में हैं। आज से सू’र्य नी’च के हो गए हैं। के’तु वृ’श्चिक राशि में हैं। के’तु वृ’श्चिक राशि में हैं। गु’रु ध’नु राशि में हैं। श’नि मकर राशि में हैं। मंग’ल मीन राशि में गो’चर में चल रहे हैं। ध्‍या’न देने की बात यह है मंगल और बुध व’क्री हैं। सूर्य नी’च के हैं जो लगभग एक महीने तक रहेंगे। सिं’ह राशि में शु’क्र का गोच’र है। बहुत ज’ल्‍द वह भी नी’च के होंगे क’न्‍या राशि में जो कम्‍बी’नेशन बनेगा वो शुक्र नी’च के और सू’र्य के नी’चे, या’नी फिर से एक बार ग्र’हों की स्थि’ति खरा’ब हुई है। आज की बात क’रूं तो मंगल, बुध व’क्री और सू’र्य नीचे के हैं। बहुत ल’म्‍बा तो नहीं लेकिन ख’राब स’मय शु’रू हो गया है। बहुत एहति’यात बर’तने की ज’रूरत है हर क्षे’त्र में। चाहे रा’जसत्‍ता प’क्ष हो, सर’कारी काम’काज हो, सरका’र की स्थि’ति हो। आपको जो भी इम्‍यू’न सिस्‍ट’म देता है उसमें सबसे आ’वश्‍यक होते हैं सू’र्य। सू’र्य की प्रा’रम्भिक किरणें बहुत सारे पो’षक त’त्‍वों, वि’टामिन को लेकर आती हैं और वो जो पोष’क त’त्‍वों के मा’लिक हैं वो नी’च के हो गए हैं इसलिए बहुत ज्‍या’दा ज’रूरत है साव’धानी ब’रतने की खास’तौर से स्‍वा’स्‍थ्‍य के माम’ले में।

राशिफल-
मेष-शारीरि’क और मान’सिक दोनों तरह से स्थि’ति ठीक नहीं है। पंच’मेश नी’च के और लग्‍ने’श व’क्री हैं। भा’ग्‍येश की स्थि’ति आपकी अच्‍छी है इसलिए भाग्‍य’वश काम होता रहेगा। जीव’नसाथी पर ध्‍या’न देने की जरूर’त है। अपने स्‍वा’स्‍थ्‍य पर ध्‍या’न देने की जरूर’त है। प्रे’मी-प्रेमि’का के बीच झग’ड़े हो सकते हैं। इस पर ध्‍या’न दें। सूर्य’देव को ज’ल दें। लाल व’स्‍तु पास रखें।

वृषभ-स्थिति थो’ड़ी सका’रात्‍मक हुई है। सर’कारी तं’त्र में आपका दब’दबा बनेगा। वि’रोधी प’रास्‍त होंगे। कुछ सीख’ने को मिलेगा। स्‍वा’स्‍थ्‍य ठीक है। प्रेम ठी’क नहीं है। व्‍या’पार आपका ठी’क चल रहा है। पीली व’स्‍तु का दान करें।

मिथुन-स्‍वा’स्‍थ्‍य पर ध्‍या’न दें। प्रेम की स्थिति अच्‍छी है। व्‍यापा’रिक दृष्टिको’ण से आप ठीक चल रहे हैं। भाव’नाओं में बह’कर नि’र्णय न लें। प्रेम में झ’गड़ा न करें। मां का’ली की अरा’धना करते रहें।

कर्क-स्थि’ति बिल्‍कुल भी ठी’क नहीं चल रही है। स्‍वा’स्‍थ्‍य प्रभावि’त है। सी’ने में वि’कार हो सकता है। बु’द्ध‍ि से काम नहीं लेंगे। अक्राम’क रहेंगे। प्रेम,व्‍या’पार की स्थिति गड़बड़ है। निरंतर भगवान शिव की अरा’धना करें। हनु’मान चाली’सा का पा’ठ करें। ईश्‍व’र साथ देंगे।

सिंह-परा’क्रमी बने रहेंगे। प’राक्रम आपको आ’गे बढ़ा’एगा। शारीरि’क स्थि’ति कमजो’र हो गई है। मान’सिक स्थि’ति ठी’क है। प्रेम की स्थि’ति ठी’क है। बस अपने स्‍वा’स्‍थ्‍य पर ध्‍या’न दें। सूर्यदे’व को जल देते रहें और तां’बे की बनी व’स्‍तु पास रखें।

कन्‍या-शारी’रि‍क स्थि’ति ठी’क नहीं कही जाएगी। थो’ड़ा बचा’व प’क्ष कम’जोर हो गया है लेकिन मन म’स्तिष्‍क साथ देगा। प्रेम की स्थि’ति भी ठीक रहेगी। व्‍यापा’रिक दृष्टिको’ण से भी आप ठीक चल रहे हैं। बस स्‍वा’स्‍थ्‍य पर ध्‍या’न देने की जरू’रत है। सूर्य’देव को जल दें। हरी व’स्‍तु पास रखें।

तुला-बहुत बच’कर पा’र करें। बु’द्ध‍ि सा’थ नहीं देगी  इसलिए थो’ड़ा धै’र्य के साथ चलि’एगा। अपनों की बात सुन’कर चलि’एगा। खु’द से कोई बड़ा निर्ण’य न लें। स्‍वा’स्‍थ्‍य ठी’क-ठा’क है। प्रेम अच्‍छा है।व्‍या’पार भी ठी’क है। सूर्यदे’व को जल दें। मां का’ली की अराध’ना करें।

वृ’श्चिक-चिं’ताकारी सृ’ष्टि का सृज’न हो रहा है। शास’न स’त्‍ता प’क्ष से कुछ नोटि’स या किसी ढं’ग की कोई खरा’ब स्थि’ति आपको मि’ल सकती है। स्‍वा’स्‍थ्‍य भी ठी’क है। प्रे’म और व्‍या’पार आपका ठीक रहेगा। पी’ली व’स्‍तु पास रखें।

धनु-आर्थि’क स्थि’ति मज’बूत होगी। लेकिन कुछ भ्राम’क समाचा’र मि’ल सकते हैं। स्‍वा’स्‍थ्‍य भी आपका ठी’क चल रहा है। प्रेम बि’ल्‍कुल ठीक नहीं है। थोड़ा सा’मंजस्‍य बनाकर च’लें। बज’रंग बा’ण का पा’ठ करें।

मकर-शा’सन स’त्‍ता प’क्ष का सह’योग मिलेगा। स्‍प’ष्‍ट रू’प से किसी ढं’ग का कोई सा’थ नहीं मिलेगा। कन्‍फ्यू’जन रहेगा। पिता के स्‍वा’स्‍थ्‍य में भी कु’छ अस’मंजस की स्थिति रहेगी। सूर्य’देव को जल दें। ताम्रपा’त्र का दान करें।

कुंभ-भाग्‍य’वश कुछ अच्‍छा हो सकता है। थोड़ी सी बेह’तर स्थि‍’ति हुई है आपकी। स्‍वा’स्‍थ्‍य अच्‍छा है। प्रेम मध्‍य’म है। व्‍या’पार मध्‍य’म से उत्‍त’म की ओर है। गणे’श जी की वं’दना करें। ताम्रपा’त्र दान करें।

मीन-बच’कर पा’र करें। शास’न स’त्‍ता से बि’ल्‍कुल पं’गा न लें। स्‍वा’स्‍थ्‍य ठीक है। प्रेम मध्‍यम है। व्‍यापार ठी’क‍ ठा’क कहा जाए’गा। सूर्य’देव को जल दें। स’फेद वस्‍तु’ओं का दा’न करें।