Categories
धार्मिक

नव’रात्रि पर इस बार दु’र्ल’भ संयो’ग, कल सुबह 9:45 त’क कर ले ये काम होगे धन’वान…..

धार्मिक खबर

आ’दिश’क्ति मां दुर्गा की उपासना का पावन प’र्व शार’दीय नव’रात्र शनिवार 17 अ’क्तूर से शु’रू होगा। इसके साथ ही म’ल’मा’स का स’मा’प’न हो जाएगा।  नवरात्र का शु’भा’रं’भ इस बार दु’र्लभ संयो’ग के साथ होगा। इसलिए ग्रही’य दृ’ष्टि से शा’र’दी’य नवरात्र शुभ और क’ल्याण’कारी होगा। नव’रा’त्र के दौ’रा’न नौ दिनों तक घ’रों, म’न्दिरों में वि’धिविधा’न से पूज’न अ’र्चन कर भ’क्त मां भगव’ती आ’शीष प्रा’प्त करेंगे। न’वरात्र को लेकर म’न्दिरों में सरकार की गा’इ’ड ला’इन के अनु’सार सि’द्धपीठ ल’लिता दे’वी, क’ल्या’णी देवी और अलो’पशंक’री मं’दि’र में पूज’न-अर्च’न की तै’या’री की गई है। 

58 साल बा’द बन रहा दु’र्लभ सं’योग
ज्योति’षाचार्य ध’र्मराज शा’स्त्री के अनु’सार इस बार के शार’दीय नव’रात्र पर ग्र’हीय आधार पर वि’शेष सं’योग बन रहा है। या’नी 17 अ’क्टूबर को 58 व’र्षों के बाद श’नि, मक’र में और गु’रु, धनु रा’शि में रहेंगे। इससे पह’ले यह यो’ग व’र्ष 1962 में बना था। यह संयो’ग नव’रात्र प’र्व को क’ल्याणकारी बना’एगा।

घ’ट स्था’पना का शु’भ मु’हूर्त
ज्योति’षाचार्य अ’वध ना’रायण द्वि’वेदी के अनु’सार प्रति’पदा ति’थि शु’क्रवार 16 अक्टू’बर की रा’त 01:50 ब’जे से शु’रू हो जाएगी, जो 17 अ’क्टूबर, शनि’वार को रात 11:26 त’क रहेगी। घ’ट स्था’पना का शु’भ मु’हूर्त सू’र्योदय से सु’बह 9:45 त’क रहेगा।

अभि’जित मु’हूर्त
 अभि’जित मु’हूर्त 10:30 ब’जे से 12:20 ब’जे त’क है। शे’ष दिन में किसी भी स’मय स्था’पना पूज’न किया जा सक’ता है।