Categories
News

मिलिए कल’युग के श्र’वण कुमार से, जिसने 12 KM चल कर ब’चाई अपनी मां की …

हिंदी न्यूज

चमोली: आपने कि’ताबों में और टीवी सी’रियल्स में श्र’वण कु’मार के बारें में ज’रुर प’ढ़ा, देखा और सुना होगा। जि’न्होंने अपने मां-बाप की इ’च्छा को पूरा करने के लिए कं’धे पर बिठा’कर चा’रों धा’म के द’र्शन कराए थे।

ले’किन आज हम आ’पको अ’सल जि’न्दगी के श्र’वण कु’मार के बारे में बताने जा रहे हैं। जि’न्होंने अपनी मां की जान ब’चाने के लिए उन्हें एक डो’ली में बि’ठाकर 12 किमी तक बि’ना थके और बि’ना रुके चलते रहे।

अस्प’ताल में ले जाकर उन्हें भ’र्ती कराया। तब जा’कर उनकी जा’न बच पाई। उनकी मां का उप’चार अभी भी अस्प’ताल में जारी है।

उल्टी दस्त से परि’वार में एक की मौ’त

प्राप्त जान’कारी के अनु’सार उत्तरा’खंड के च’मोली जि’ले में जोशी’मठ वि’कास खं’ड के अंत’र्गत कि’माणा गांव में पिछ’ले कुछ दिनों से लोगों को उ’ल्टी-दस्त की शि’कायत हो रही है। लो’गों ने ब’ताया कि मंगल’वार देर शाम को सु’नीता देवी, पत्नी वि’नोद कुं’वर और उनकी 12 साल की बे’टी सि’म्मी को उल्टी-दस्त शुरू हो गया।

दो’नों की त:बीयत अ’चानक से बिग’ड़ने लगी, लेकिन गांव के आस-पास कोई स्वास्थ्य सुविधा नहीं होने और स’ड़क मार्ग का’फी दूर होने के च’लते लोग रात को उसे अस्प’ताल नहीं ले जा पाए।

तबी’यत अधिक ख’राब होने पर सि’म्मी ने रा’त को ही दम तो’ड़ दिया। जब’कि सुनीता देवी को सुबह होने पर उनके बेटे ने डोली के सहारे पै’दल चलकर अस्पताल पहुंचाया। म’हिला को जो’शीमठ सामु’दायिक स्वा’स्थ्य केंद्र में भ’र्ती किया गया है।

स्वा’स्थ्य सु’विधा न होने से ग्रा’मीण परे’शान

गांव के लोगों ने बताया कि स्वा’स्थ्य सु’विधा और सड़क के अभाव में ग्रा’मीण रात को कुछ नहीं कर पाए। सुबह होने पर म’हिला को डं’डी-कं’डी के सहारे अस्प’ताल पहुं’चाया गया।

उन्होंने कहा कि आ’खिर कब तक ग्रा’मीण इस तरह परेशान होते रहेंगे। स्वा’स्थ्य सुवि’धाओं के अ’भाव में कब तक जान गंवाते रहेंगे। सर’कार और शासन-प्रशा’सन को गांव में कम से कम सड़’क सु’विधा तो देनी चाहिए।

वहीं इस पूरे मामले में चमो’ली जिले के सी’एमओ डा. जी’एस रा’णा का कहना है कि गांव में स्वा’स्थ्य वि’भाग की टीम को भेज दिया गया है। जां’च करने पर पता चले’गा कि एक साथ इतने लोगों को उ’ल्टी दस्त की शि’कायत क्यों हुई।