Categories
Entertainment

आ’खिर कब ली गई दुनिया की पहली से’ल्फी और किसने ली, जाने कुछ रो’चक बातें

मनोरंजन

आज के समय में से’ल्फी का क्रेज हर कि’सी में दि’खाई देता है। वि’कसित होते मो’बाइल फोन और उसके कैमरे की सुधरती क्वा’लिटी ने लोगों को अ’पनी तस्वीरें खीं’चने के लिए प्रो’त्साहित किया है। लेकिन क्या आपको सेल्फी के इ’तिहास के बारे में पता है। आपको यह जानकर है’रानी होगी कि दु’निया की पहली सेल्फी आज से डेढ़ सदी पहले खीं’ची गई थी।दुनिया की पहली से’ल्फी सन 1850 में ली गई थी। हालांकि, यह आज की तरह चम’कती सेल्फी नहीं, बल्कि एक सेल्फ पोट्रेट है। यह सेल्फी स्वी’डिश आर्ट फो’टोग्राफर ऑ’स्कर गु’स्तेव रेज’लेंडर की है। बता दें कि इस सेल्फ पो’ट्रेट को उत्तरी यॉ’र्कशायर के मॉ’र्फेट्स ऑफ हेरो’गेट ने 70,000 पाउं’ड यानी करीब 66.5 लाख रुपये में नी’लाम किया गया था।

एक दा’वा ये भी
वैसे एक दावा ये भी है कि पहली से’ल्फी सन 1839 में खींची गई थी। अमे’रिकी फो’टोग्राफर रॉबर्ट कोरने’लियस ने इस से’ल्फी को खींचा था। उन्होंने अपने कैमरे से अपनी फो’टो खीं’चने की को’शिश की थी।

क्या है से’ल्फी?
मोबाइल फोन से खुद की खीं’ची गई फो’टो को सा’धारण तौर पर सेल्फी कहा जाता है। ले’किन इस शब्द का प्रचलन पिछले कुछ सालों से खूब बढ़ा है। पहली बार सेल्फी शब्द का इस्ते:माल आस्ट्रे’लियाई वेब:साइट फोरम एबीसी आ’नलाइन ने 13 सितंबर 2002 में किया था। टाइम मै’ग्जीन ने साल 2012 के 10 मूल शब्दों में सेल्फी शब्द को स्थान दिया था। ऑ’क्सफोर्ड शब्द’कोश ने से’ल्फी शब्द को साल 2013 में वर्ड ऑफ द ईयर घो’षित किया।

से’ल्फी लेने की धमा’केदार शुरु’आत साल 2011 से मानी जाती है, जब एक मकाऊ प्रजा’ति के एक बंदर ने इंडो’नेशिया में ब्रि’टिश वन्य’जीव फोटो’ग्राफर डे’विड स्लाटर के कैमरे का बटन द’बाकर सेल्फी ली थी।