Categories
Other

आजम खान को लगा बड़ा झटका चली गई सालो की जायदाद ……

nayi khabar

लखनऊ/रामपुर: सपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व सांसद रहे आजम खान की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। गुरुवार को आजम खान को एक बार फिर से तगड़ा झटका लगा है। इस बार सुन्नी वक्फ बोर्ड ने जौहर ट्रस्ट को वक्फ संख्या 157 के मुतवल्ली पद से हटा दिया है और उसकी जगह अपना एडमिनिस्ट्रेटर नियुक्त किया है।

इतना ही नहीं आजम खान के जौहर ट्रस्ट ने जो यतीमखाना की जमीन पर अवैध ढंग से कब्जा जमा रखा था उसे भी वापस ले लिया है। उस जमीन को यतीमों को आवंटित कर दी गई है, जो कि लबें वक्त तक यहां रहते आए हैं।

क्या है ये पूरा मामला

सपा की सरकार रहते आजम खान ने जब जौहर ट्रस्ट को इसका मुतवल्ली नियुक्त कराकर यतीमखाने की जमीन अपने कब्जे में लीं थी , तब भी फैसल लाला उनके विरोध में खड़े हुए थे।

सावर्जनिक तौर पर आजम खान से दुश्मनी मोल लेने के बाद फैसल लाला को कांग्रेस पार्टी से बाहर का रास्ता भी दिखाया गया था। लेकिन वे लगातार विरोध करते रहे, अब उन्होंने यतीमखाने की जमीन बेघर हुए किरायेदारों को वापस दिलवा दी है।

यहां बता दें कि फैसल लाला एक सामाजिक कार्यकर्ता हैं जो लम्बे वक्त से यतीमों के हक की लड़ाई लड़ रहे हैं। फैसल लाला ने प्रेस कांफ्रेंस के माध्यम से आज मीडिया को बताया कि जौहर ट्रस्ट को मुतवल्ली के पद से हटाया गया है और वक्फ में तैनात जुनैद खान को वक्फ संख्या 157 का एडमिनिस्ट्रेटर तैनात किया गया गया है

आजम खान ने जमाया था अवैध कब्जा

ये यतीमखाने की जमीन थी जहां से करीब 26 लोगों को बेघर करने के बाद आजम खान ने जौहर ट्रस्ट के नाम से एक स्कूल का निर्माण करा दिया था। वर्ष 2016 में समाजवादी पार्टी की सरकार के दौरान आजम खान ने वक्फ संख्या 157 का मुतल्लवी जौहर ट्रस्ट को बना लिया था। अब ये जमीन लॉकडाउन खत्म होने के बाद पहले रहने वाले 26 लोगों को सौंप दी जाएगी।