Categories
News

चीन में फैला लोगों को नपुं’सक बनाने वाला इन्फे’क्श’न जाने लक्ष’ण और बचा’व…

हिंदी खबर

कोरो’ना वा:यरस की तबा’ही से पूरी दुनि’या पस्त हो चुकी है. लेकिन ची’न में अब एक नई बीमा’री लोगों की जिंद’गी त’बाह करने पर अमादा है. यहां हजारों लोग बैक्टी’रिया जनित एक भया’नक रोग से संक्र”मित हो रहे हैं, जो उनकी नपंसु”कता का कारण बन सकता है. गांसु प्रांत के एक बड़े शहर लान्:झोउ के हेल्थ कमी’शन के मुता”बिक, अब तक 3,245 लोग ब्रूसेलॉसिस नाम की गंभीर बी”मारी के सं”पर्क में आ चुके हैं, जो कि एक बैक्टी’रियल इंफे’क्शन है.

एक्स’पर्ट का कहना है कि बैक्टी’रिया से होने वाला ये इंफेक्शन पशु”‘ओं के संपर्क में आने से होता है. हालांकि बैक्टी’रियल इंफे’क्शन को लेकर मी’डिया रिपो’र्ट्स कुछ और ही बयां करती हैं. मीडिया रिपो’र्ट्स के मुता’बिक, ऑथो”रिटीज का कहना है कि ये म’हामारी पिछले साल एक बायो”फार्मास्यू”टिकल कंपनी के ली”क की वजह से फैली है.

यांग’झोउ यूनिव”र्सिटी के प्रो”फेसर झु गुओकियांग ने साउथ-चाइना मॉर्निंग पोस्ट के हवाले से कहा, ‘ब्रूसेलॉ”सिस नाम की ये घा”तक बी”मारी इं”सान के रीप्रो”डक्टिव सिस्मट को बर्बाद कर देती है. यदि इंसा”न को सही वक्त पर इलाज ना मिले तो नि”श्चित तौर पर वह नपुंस”कता का शि::कार हो सकता है.’

ब्रूसेलॉ”सिस नाम की इस बी”मारी को माल्टा फीवर या मीडी”टेरानियन फी”वर भी कहते हैं, जो कि ब्रूसेना प्रजा”ति के एक ग्रुप ऑफ बैक्टीरिया के कारण होती है. अक्”सर लोग इस बीमा”री का शि”कार सूअर, बकरी, कुत्ता या भेड़ जैसे संक्र”मित पशु”ओं के सं”पर्क में आने से होते हैं.

एक इं”सान से दूसरे इं”सान में इस बीमारी के फैलने का खत”रा काफी कम होता है. एक्सप”र्ट्स का कहना है कि दूध को बिना उबाले पीने से या इंफे”क्टेड फूड जैसे कि दूध और चीज़ खाने से इं”सान संक्र”मित हो सकता है. इसके अलावा संक्र”मण के एय:’रबॉर्न एजें””ट्स के संपर्क में आने से भी आप इस गंभीर बी,मारी का शिका’र हो सकते हैं.

को”रोना की तरह इस बी’मारी के ल’क्षण भी काफी देरी से सामने आते हैं. इसके ल”क्षण एक सामा”न्य फ्लू जैसे ही होते हैं. बु’खार, कमजोरी, सिर’दर्द, मांसपे’शियों में दर्द और थका’वट इसके प्रमुख ल’क्षण हैं. हा’लांकि कुछ पुरु’षों में यह बीमारी इनफर्टि’लिटी, इन्सेफला”इटिस और मेनिन्जा’इटिस का कारण भी बन सकती है.

हेल्थ ऑ”थोरिटीज का दावा है कि इस बी”मारी के इंसा”नों से इंसानों में फैलने के अभी तक कोई सबू””त नहीं मिले हैं. अमे”रिका के सेंटर्स फॉर डिसीज कं”ट्रोल एंड प्रीवेंशन का भी कहना है कि ब्रूसेलॉ”सिस नाम की इस बीमारी का पर्सन टू पर्सन फैलने का खतरा भी कम ही होता है. हालांकि बीमारी के कई लक्षण दोबा”रा देखे जा सकते हैं या कभी नहीं जाते.