Categories
sport

IPL 2020: चे’न्नई ने मुं’बई को कै’से ह’राया..?? खुद धो’नी ने ब’ताया बो फै’क्टर….

चे’न्नई सुपर किं’ग्स (CSK) के क’प्तान म’हेंद्र सिंह धो’नी ने क’हा कि इं’डियन प्री’मियर लीग (IPL) के पहले मै’च में गत चै’म्पियन मुं’बई इं’डियंस के खि’लाफ 5 विकेट की जीत में उनकी टीम का ‘अनुभव’ अहम सा’बित हुआ. अंबति रायडू और फाफ डु’प्लेसिस ने तीसरे वि’केट के लिए 115 रनों की सा’झेदारी की, ज’बकि पी’यूष चा’वला ने शा’नदार गेंद’बाजी की और उन्हें सै’म कु’रेन, दी’पक चा’हर और लुं’गी नगिदी जैसे गें’दबाजों का अच्छा साथ मि’ला.

धो’नी ने जी’त के बाद कहा, ‘अ’नुभव काम कर गया, सभी इस बारे में बात कर रहे हैं. का’फी मै’च खे’लने के बाद ही आपको अ’नुभव हासिल होता है. 300 व’नडे मैच खे’लना किसी भी क्रि’केटर का सपना होता है और जब आप मैदान पर टीम उ’तारते हो तो आपको युवा और अ’नुभवी खि’लाड़ियों के अच्छे मि’श्रण की ज’रूरत होती है.’

उ’न्होंने कहा, ‘आपको अ’नुभवी खि’लाड़ियों की जरूरत होती है कि वे मैदान पर युवा खि’लाड़ियों का मार्ग दर्शन करें. यु’वा खि:लाड़ियों को आ’ईपीएल में सी’नियर खि’लाड़ियों के साथ 60-70 दिन बि’ताने का मौका मि’लता है.’

चे’न्नई के इस क’रिश्माई क’प्तान ने हा’लांकि कहा कि उनकी टीम को अभी कुछ विभागों में सु’धार करने की ज’रूरत है. धोनी ने कहा, ‘काफी स’कारात्मक पक्ष रहे, लेकिन कुछ ऐसे विभाग हैं जिन पर काम करने की ज’रूरत है, वि’शेषकर टाइमिंग को लेकर. बाद में खे’लते हुए ओस पड़ने तक थोड़ा मू’वमेंट रहता था. ऐसे में अगर आ’पके पास वि’केट बचे हों तो आप फा’यदे में रहते हो.’

मुं’बई ने पहले ब’ल्लेबाजी का न्यो’ता मि’लने पर नौ वि’केट पर 162 रन बनाए. चे’न्नई ने मैन ऑफ द मैच रा’यडू के 71 और डु’प्लेसिस के ना’बाद 58 रनों की मदद से 19.2 ओवरों में पांच वि’केट पर 166 रन ब’नाकर जीत द’र्ज की. मुं’बई का 2013 से लेकर अब तक अ’पना पहला मैच गं’वाने का क्रम ब’रकरार रहा.

धो’नी ने रा’यडू और डु’प्लेसिस की सा’झेदारी को महत्वपूर्ण करार देते हुए कहा, ‘हमारे गेंदबाजों को लय हासिल करने में स’मय लगा. रा’यडू ने फाफ के साथ बे’हतरीन सा’झेदारी नि’भाई. हमारे अ:धिकतर खि’लाड़ी संन्यास ले चुके हैं इ’सलिए अच्छी बात यह है कि ह’मारा कोई खि’लाड़ी चो’टिल नहीं है.’

अं’तरराष्ट्रीय क्रि’केट से सं’न्यास ले चुके इस वि’केटकीपर ब’ल्लेबाज का यह पि’छले साल वि’श्व कप के बाद पहला प्र’तिस्पर्धी मैच था और उन्होंने कहा कि मैदान पर उ’तरना अलग तरह का अ’हसास होता है.

धो’नी ने कहा, ‘आपने ब’हुत अ’भ्यास किया हो, ले’किन मै’दान पर उतरकर खेलना भि’न्न होता है. वहां आपको परि’स्थितियों का आ’कलन करके अपना स’र्वश्रेष्ठ देना होता है.’

मुं’बई इं’डियंस टीम के क’प्तान रो’हित श’र्मा ने स्वीकार किया कि डेथ ओ’वरों में अच्छी ब’ल्लेबाजी नहीं कर पाने का उन’की टीम को नु’कसान हुआ.

उ’न्होंने कहा, ‘ह’मारा कोई भी ब’ल्लेबाज डु’प्लेसिस और रा’यडू की तरह पारी को आगे नहीं बढ़ा पाया. हमने पहले दस ओ’वरों में 86 रन बनाए थे. चे’न्नई के गें’दबाजों को श्रे’य जाता है. जि’न्होंने आ’खिरी ओ’वरों में अच्छी गें’दबाजी की.’