Categories
News

प्लास्टिक स’र्जरी कैसे होती? जानकर उड़ जाएंगे आपके हो’श….

हिंदी खबर


कित’ना प्राचीन है Ayurveda, किस तरह हजारों साल पहले होती थी स’र्जरी?
प्राचीन भारतीय आयुर्वेदिक चि’कित्सक सुश्रुत को सर्ज’री का जनक माना जाता है. कथित तौ’र पर उनकी किताब सुश्रुत संहि’ता (Sushruta Samhita in Ayurveda) के अंग्रेजी अनुवाद को पढ़कर ब्रिटिश डॉक्ट’रों ने लाशों पर स’र्जरी शुरू की, जो साल 1814 में कामयाब हुई.
कितना प्रा’चीन है Ayurveda, किस तरह हजारों साल पहले होती थी स’र्जरी?
प्राचीन समय में आ’युर्वेद अपने में संपू’र्ण चि’कित्सा कहलाती रही

को’रोना संकट के बीच देश में आ’युर्वेद और एलोपै’थिक (Ayurveda versus Allopathy) के बीच बह’स चल पड़ी है. चि’कित्सा का लगभग 200 सदी पहले शुरू हुआ विज्ञान एलोपैथ खु’द को ज्यादा बेहतर मानता है, तो आयुर्वेद भी दावों में पीछे नहीं. अनुमान है कि आ’युर्वेद दुनिया के सबसे प्राचीन चि’कित्सा विज्ञान में से है. आयुर्वे’दिक दवा लगभग 3 हजार साल पुरानी मानी जाती रही है. यहां तक कि इसमें स’र्जरी भी होती थी.

किस शाखा के त’हत आता है ये चि’कित्सा विज्ञान

ब्रिटानिक वेबसाइट के मुता’बिक ज्यादातर आयुर्वेदिक चि’कित्सक ग्रामीण और कस्बा’ई इलाकों में काम करते हैं और लगभग 500 मिलियन लोगों को वै’कल्पिक इलाज देते हैं. बता दें कि वैक’ल्पिक इलाज, उसे कहते हैं जो बीमारी के मु’ख्य इलाज के अला’वा होता है. जैसे कैंसर के मरी’ज की दवाएं तो एलोपैथ होंगी, लेकिन साथ-साथ में वे पारंप’रिक इलाज भी अपनाने लगते हैं, ताकि ज’ल्दी राहत मिल सके.