Categories
News

उल्कापिंड को सोने की खदान समझ रिसर्च कर रहा था NASA, करोड़ों रुपए बर्बाद करने पर पता चली सच्चाई……………

न्यूज

अंतरिक्ष (Space Study) में मिले एक उल्का’पिंड (Asteroid) को NASA के वैज्ञानिकों ने इतना कीमती बताया था कि इससे धरती की सारी गरीबी ही दूर हो जाती. हालांकि करीब साल भर स्टडी (NASA new study) करने के बाद अब उनका मानना कुछ और ही है.

अंतरिक्ष अपने-आप में काफी सारे रह’स्यों (space mystery) से भरा है. कई बार वैज्ञानिकों के हाथ कुछ ऐसा भी लग जाता है, जिसे लेकर वे उत्सा’हित भी हो जाते हैं. मंगल और बृहस्पति ग्रह के बीचोंबीच एक ऐसा ही उल्का’पिंड नासा के हाथ लगा. इस पिंड के बारे में नासा का कहना था ये गेम चें’जर है और धरती को इतना पैसा दे सकता है कि हर इंसान करोड़पति बन जाएगा.
नासा (NASA) ने इतना सब कुछ सोचकर इसके रिसर्च के लिए करोड़ों रुपये लगा दिए. वो तो अच्छा हुआ कि मिशन (Discovery Mission) के लॉन्च होने से पहले ही पता चल गया कि 16-साइकी (16 Psyche) नाम का ये क्षुद्र’ग्रह कोई कीमती खजाना नहीं बल्कि मल’बे का ढेर है. ये दूसरे उल्का’पिंडों की ही तरह मेटल कम और कार्ब’न कंटेंट ज्यादा संजोए हुए है.

वैज्ञानिकों ने कहा था- लग गया जैकपॉट
वैज्ञानिकों ने कहा था कि साइकी-16 नाम के इस आलू की तरह आकार के क्षुद्र’ग्रह की संरचना सोने, बहुमू’ल्य धातु प्लेटिनम, आयरन और निकल से बनी हुई है. सोने-लोहे से बने इस एस्टेरॉयड का व्यास लगभग 226 किलोमीटर है. क्षुद्र’ग्रह पर खासतौर से लोहे की भरपूर मात्रा है. अंतरिक्ष विशेषज्ञों के मुताबिक एस्टे’रॉयड पर मौजूद लोहे की कुल कीमत करीब 8000 क्वॉड्रिलियन पाउंड ( $10,000 quadrillion) है. यानि आसान तरीके से समझा जाए तो 8000 के बाद 15 शून्य और लगाने होंगे.

सच्चाई निकली इससे कहीं अलग
अब प्लानेटरी साइंस जर्नल (Planetary Science Journal) में पब्लिश रिसर्च के मुताबिक साइकी-16 में 82.5 प्रतिशत मेटल, 7 प्रतिशत लो आयरन पैरॉक्सिन और 10.5 प्रतिशत कार्बनेसस कॉन्ड्राइट मौजूद है. इसके अंदर 35 फीसदी खोख’लापन हो सकता है. वैज्ञानिकों की टीम में शुमार स्टूडेंट डेविड कैंटिलो (David Cantillo) का कहना है कि साइकी-16 में मेटेल कंटेंट कम भी हो सकता है. अगर ऐसा हुआ तो ये दूसरे उल्का’पिंडों (asteroids) जैसा ही होगा.

कब जाएगा नासा ?
डेली मेल के के मुताबिक नासा (NASA) इस उल्कापिंड पर अगस्त 2022 में अपना मिशन भेजने वाला है. ये मिशन 4 साल बाद यानि 2026 में वहां से वापस आएगा. वैज्ञानिकों का कहना है कि अगर उनके अनुमान से कम भी मेटल यहां मिला, तो भी ये बड़ी सफलता होगी. हालांकि पहले भी नासा उल्कापिंड पर खुदाई (Mining in Space) की योजना लेकर नहीं चल रहा था, क्योंकि उन्हें लगता है इससे धरती पर संघर्ष बढ़ सकता है. वो बात अलग है कि स्पेस माइनिंग के लिए कंपनियां काफी उत्साहित थीं. वहीं कुछ लोग धरती पर मौजूद स्वर्ण धातु को भी उल्कापिंड से जोड़कर देखने लगे थे.