Categories
चाणक्य नीति

ये पांच नाम वाले पुरुष जन्म से ही मालिक बनने का भाग्य लेकर आते हैं..

चाणक्य नीति

आपका नाम ही जीवन में सर्वाधिक महत्व रखता है,क्योंकि इससे आपकी सीधी पहचान जुड़ी होती है.. चेहरे के बाद देखा जाए तो लोग इसी से एक दूसरे को पहचानते हैं। ऐसे में ज्योतिष भी काफी हद तक नाम को आपका आधार मान कर काम करता है।

क्या आप जानते हैं कि नाम का पहला अक्षर आपके बारे में बहुत कुछ कहता है, यहां तक की आपके स्वभाव से लेकर आपके भाग्योदय तक के विषय में आपके असली नाम के काफी कुछ पता लगाया जा सकता है।

दरअसल नाम का पहला अक्षर सामान्यत: आपकी राशि के आधार पर होता है, लेकिन कई लोग इससे इतर भी नाम रखते हैं, जानकारों की मानें तो ये बदले हुए नाम भी आपके कार्यों में कई बार अडचन तो कई बार आपके कार्यों को सुलभ बनाने का काम करते हैं।

लेकिन असल में आपका स्वभाव और भाग्य आपके असली नाम यानि कुंडली आधारित नाम पर ही आश्रित होता है। परंतु बदला हुआ नाम आपका भाग्य पूरी तरह से परिवर्तत करे ऐसा मुमकिन नहीं है, वरना लोग हर पांच साल बाद अपना नाम ही बदल दें।दरअसल आपका असली नाम का पहला अक्षर आपकी कुंडली पर आधारित होता है यानि चंद्र का स्थान व नक्षत्र के आधार पर… ऐसे में नाम के आधार पर आपके स्वभाव यानि व्यवहार और भाग्योदय के संबंध में काफी कुछ जाना जा सकता है।

आपको ये जानकर आश्चर्य होगा कि आपका नाम आपकी पसंद-नापसंद और जीवन के अहम फैसले लेने की क्षमता को भी प्रभावित करता है। दरअसल ज्योतिष के अनुसार नाम का व्यक्ति के स्वभाव और गुण दोष आदि पर गहरा प्रभाव पड़ता है।

ऐसे में व्यक्ति के नाम से उसके बारे में बहुत कुछ पता लग सकता है। आज हम कुछ ऐसे अक्षरों के बारे में बता रहे हैं, जिनका नामों में सबसे अधिक उपयोग होता है। इन अक्षरों से शुरू होने वाले नाम के व्यक्ति का स्वभाव और खूबियां ऐसे जाने…

  1. ‘अ’ या A नाम वाले…
    अंकज्योतिष में अक्षर ‘अ’ जिसे अंग्रेजी में A कहा जाता है इसको नंबर 1 से देखा जाता है। इस अक्षर से शुरू होने वाले लोग प्रभावशाली शख्सियत के मालिक होते हैं। ये दूसरों के सामने अपनी मन मुताबिक छवि गढ़ने में सक्षम होते हैं।

‘अ’ अक्षर सबसे प्रभावशाली अक्षर माना जाता है और अगर आपका नाम इसी अक्षर से शुरू होते है तो इसका मतलब है कि आप आत्मविश्वासी होने के साथ ही काफी दृढ़ प्रतिज्ञ और साहसी किस्म के व्यक्ति हैं। साथ ही आप अपनी शर्तों पर जिंदगी जीना पसंद करते हैं।

‘अ’ अक्षर वाले लोग जिंदगी में हर जगह आगे रहने की इच्छा रखते हैं। ये बहुत ही महात्वाकांक्षी होने के साथ ही नेतृत्व करना पसंद करते हैं। कई बार ‘अ’ अक्षर एग्रेसिव, एडवेंचरस का भी प्रतीक होता है।
आपको पता होता है कि आपको अपनी लाइफ में क्या चाहिए और इसीलिए आप इसे दूसरों से शेयर करने में यकीन नहीं रखते हैं। ऐसे में कई लोगों को आप रूड और ईगो वाले शख्स लग सकते हैं।

  1. ‘क’ या K नाम वाले…
    माना जाता है कि जिनका नाम ‘क’ अक्षर से शुरू होता है, उनका नाम उनकी पर्सनैलिटी और डेस्टिनी दोनों को प्रभावित करता है। कहा जाता है कि कुंडली के आधार पर निकला आपका नाम आपके अतीत, वर्तमान और भविष्य को समाहित किए रहता है।

‘क’ को अंग्रेजी K कहते हैं और इसमें अक्षर की अंकीय ऊर्जा 2 के बराबर मानी गई है। यह अंक अतिवाद का प्रतिनिधित्व करता है। ऐसे में माना जाता है कि जिन लोगों का नाम ‘क’ अक्षर से शुरू होता है, उन्हें अपने जीवन में संतुलन और सामंजस्य बिठाने की कोशिश करनी चाहिए।

  • ‘क’ नाम वाले रहस्यमयी और थोड़े शर्मीले भी होते हैं। ये इमोशनल किस्म के लोग होते हैं, जिन्हें हर वक्त दूसरों की केयर चाहिए। इन्हें आकर्षण का केंद्र बनना पसंद है।
  • ‘क’ अक्षर नाम वाले लोग जो कुछ भी करते हैं, उसे लेकर हद तक जाते हैं। कई बार ये इनके लिए नुकसान पहुंचाने वाला होता है।
  • ‘क’ अक्षर से नाम वाले लोग शांतिप्रिय और दूसरे लोगों की मदद करने वाले होते हैं। ये दूसरों के साथ बहुत आसानी से काम कर लेते हैं और बहुत ही सहायक होते हैं।

कई मामलों में ये दूसरों पर निर्भर होते हैं और साझेदारी में बेहतर तरीके से काम कर पाते हैं। इन्हें एकांत पसंद है।

  • ये शिद्दत से प्यार करते हैं और अपने दिल के करीब लोगों का खास ख्याल रखते हैं।
  1. ‘र’ नाम वाले…
    ‘र’ अक्षर वालों के अंदर कौन सी खूबियां और कमियां होती हैं…
    ‘र’ अक्षर को अंकशास्त्र में अंक 9 के बराबर माना जाता है। यह अंक सहिष्णुता, बुद्धि और मानवता का प्रतीक है। ये दूसरों के लिए बहुत अच्छे मोटिवेटर भी होते हैं।

ऐसे लोगों का व्यक्तित्व काफी प्रभावशाली होने के साथ ही इनके अंदर बुद्धि, उदारता, इंट्यूशन और आदर्शवाद होता है। ये परिजनों, दोस्तों और अपने घर से बहुत प्यार करते हैं और उनका खास ख्याल रखते हैं।

इस नाम वाले लोग बहुत क्रिएटिव होते हैं और उनकी रुचि कला और संस्कृति के क्षेत्र में ज्यादा रहती है।
‘र’ अक्षर वाले हमेशा दूसरों के हित के लिए काम करते हैं। इनकी यह प्रवृत्ति इनके व्यक्तित्व को सबसे ज्यादा प्रभावित करती है।